वोल्ट

वोल्ट (प्रतीक: V), विद्युत विभव, विभवान्तर और विद्युतवाहक बल की व्युत्पन्न इकाई है। इस ईकाई का नाम (वोल्ट) इतालवी भौतिकविज्ञानी वोल्टा (1745-1827) के सम्मान में रखा गया है जिसने वोल्टेइक पाइल का आविष्कार किया, जिसे पहली रासायनिक बैटरी कह सकते हैं।

जहाँ :

Volta batteries
वोल्टा पाइल

कुछ सामान्य वोल्टताएँ

  • चार्ज होने वाली निकिल-कैडमियम बैटरी : १.२ वोल्ट
  • LiFePO4 री-चार्जेबल बैटरी : 3.3 V
  • शुष्क सेल का वोल्टेज : १.५ वोल्ट
  • कार एवं अन्य गाड़ियों की बैटरी : १२ वोल्ट
  • खिलौनों में लगने वाली बैटरी पैक : ९ वोल्ट
  • टी टी एल लॉजिक के लिये आवश्यक वोल्टता : ५ वोल्ट
  • (भारतीय) घरों में दी जाने वाली सप्लाई : २३० वोल्ट (प्रत्यावर्ती (ए सी))
  • जापान के घरों में दी जाने वाली सप्लाई : १०० वोल्ट (प्रत्यावर्ती (ए सी))
  • उच्च वोल्टता का विद्युत संप्रेषण : 110 kV से अधिक (२००५ में 1.15 MV तक प्रेषित किया गया। )
  • तड़ित (आकाशीय विद्युत) : प्रायः 100 MV के लगभग (किन्तु यह बहुत अधिक बदलता है)
अर्धचालक पदार्थ

अर्धचालक (semiconductor) उन पदार्थों को कहते हैं जिनकी विद्युत चालकता चालकों (जैसे ताँबा) से कम किन्तु अचालकों (जैसे काच) से अधिक होती है। (आपेक्षिक प्रतिरोध प्रायः 10-5 से 108 ओम-मीटर के बीच) सिलिकॉन, जर्मेनियम, कैडमियम सल्फाइड, गैलियम आर्सेनाइड इत्यादि अर्धचालक पदार्थों के कुछ उदाहरण हैं। अर्धचालकों में चालन बैण्ड और संयोजक बैण्ड के बीच एक 'बैण्ड गैप' होता है जिसका मान ० से ६ एलेक्ट्रान-वोल्ट के बीच होता है। (Ge 0.7 eV, Si 1.1 eV, GaAs 1.4 eV, GaN 3.4 eV, AlN 6.2 eV).

एलेक्ट्रानिक युक्तियाँ बनाने के लिए प्रयोग किए जाने वाले अधिकांश अर्धचालक आवर्त सारणी के समूह IV के तत्व (जैसे सिलिकॉन, जर्मेनियम), समूह III और V के यौगिक (जैसे, गैलियम आर्सेनाइड, गैलियम नाइट्राइड, इण्डियम एण्टीमोनाइड) antimonide), या समूह II और VI के यौगिक (कैडमियम टेलुराइड) हैं। अर्धचालक पदार्थ एकल क्रिस्टल के रूप में हो सकते हैं या बहुक्रिस्टली पाउडर के रूप में हो सकते हैं। वर्तमान समय में कार्बनिक अर्धचालक (organic semiconductors) भी बनाए जा चुके हैं जो प्रायः बहुचक्री एरोमटिक यौगिक होते हैं।

आधुनिक युग में प्रयुक्त तरह-तरह की युक्तियों (devices) के मूल में ये अर्धचालक पदार्थ ही हैं। इनसे पहले डायोड बनाया गया और फिर ट्रांजिस्टर। इसी का हाथ पकड़कर एलेक्ट्रानिक युग की यात्रा शुरू हुई। विद्युत और एलेक्ट्रानिकी में इनकी बहुत बड़ी भूमिका रही है। विज्ञान की जिस शाखा में अर्धचालकों का अध्ययन किया जाता है उसे ठोस अवस्था भौतिकी (सलिड स्टेट फिजिक्स) कहते हैं।

आइंस्टीनियम

आइंस्टीनियम () तत्व अमरीका के ताप न्यूक्लीय विस्फोट के रेडियमधर्मी मलबे में पाया गया था। इसका नाम विश्वविख्यात वैज्ञानिक आइंस्टाइन के नाम पर रखा गया है।

आंइस्टीनियम की खोज १९५२ ई. में ही हो गई थी लेकिन काफी समय तक यह प्रचुर मात्रा में तैयार नहीं किया जा सका। यूरेनियम द्वारा न्यूट्रान अवशोषित होने से इसका निर्माण हुआ था। उस ताप न्यूक्लीय विस्फोट में भारी मात्रा में न्यूट्रानों का द्रावक उत्पन्न हुआ जिसके कारण यूरेनियम नाभिक १७ न्यूट्रानों का अवशोषण कर पाया और फलस्वरूप यह तत्व बन सका। १९५४ ई. लगभग एक ही समय, कैलीफोर्निया विश्वविद्यालय, ओरेगन प्रयोगशाला (अमरीका) और स्टाकहोम प्रयोगशाला में तत्व ९९ का निर्माण किया गया। यूरेनियम-२३८ पर नाइट्रोजन नाभिक की अभिक्रिया द्वारा यह तत्व बनाया गया। १९६१ ई. में एक अधिक न्यूट्रान प्लक्स वाले रिएक्टर में प्लूटोनियम २३९ के विकिरणन द्वारा प्रचुर मात्रा में इसको तैयार किया गया। इसकी परमाणुसंख्या ९९ तथा अर्धआयु २० दिन है। यह ६.६ एम.ई. वोल्ट ऊर्जा के अल्फाकण उत्सर्जित करता है। इसका रासायनिक सूत्र Es है। अब तक इसके चार समस्थानिक पाए गए हैं।

इलेक्ट्रॉन वोल्ट

इलेक्ट्रॉन वोल्ट (चिन्ह eV) ऊर्जा की इकाई है। यह गतिज ऊर्जा की वह मात्रा है, जो एक इलेक्ट्रॉन द्वारा निर्वात में एक वोल्ट का विभवांतर पार करने पर प्राप्त की जाती है। सरल शब्दों में, यह 1 वोल्ट तथा 1 एलेक्ट्रानिक आवेश (e) के गुणनफल के बराबर होती है, जहाँ एक वोल्ट = एक जूल प्रति कूलम्ब है।।

एक इलेक्ट्रॉन वोल्ट अति लघु मात्रा की ऊर्जा है:

1 eV = 1.602 176 53 ×10−19 जूल (या लगभग 0.160 aJ)

एल्युमिनियम

एलुमिनियम एक रासायनिक तत्व है जो धातुरूप में पाया जाता है। यह भूपर्पटी में सबसे अधिक मात्रा में पाई जाने वाली धातु है। एलुमिनियम का एक प्रमुख अयस्क है - बॉक्साईट। यह मुख्य रूप से अलुमिनियम ऑक्साईड, आयरन आक्साईड तथा कुछ अन्य अशुद्धियों से मिलकर बना होता है। बेयर प्रक्रम द्वारा इन अशुद्धियों को दूर कर दिया जाता है जिससे सिर्फ़ अलुमिना (Al2O3) बच जाता है। एलुमिना से विद्युत अपघटन द्वारा शुद्ध एलुमिनियम प्राप्त होता है।

एलुमिनियम धातु विद्युत तथा ऊष्मा का चालक तथा काफ़ी हल्की होती है। इसके कारण इसका उपयोग हवाई जहाज के पुर्जों को बनाने में किया जाता है। भारत में जम्मू कश्मीर, मुंबई, कोल्हापुर, जबलपुर, रांची, सोनभद्र, बालाघाट तथा कटनी में बॉक्साईट के विशाल भंडार पाए जाते है। उड़ीसा स्थित नाल्को (NALCO) दुनिया की सबसे सस्ती अलुमिनियम बनाने वाली कम्पनी है।

कण त्वरक

कण-त्वरक एसी मशीन है जिसके द्वारा आवेशित कणों की गतिज ऊर्जा बढाई जाती हैं। यह एक ऐसी युक्ति है, जो किसी आवेशित कण (जैसे इलेक्ट्रान, प्रोटान, अल्फा कण आदि) का वेग बढ़ाने (या त्वरित करने) के काम में आती हैं। वेग बढ़ाने (और इस प्रकार ऊर्जा बढाने) के लिये वैद्युत क्षेत्र का प्रयोग किया जाता है, जबकि आवेशित कणों को मोड़ने एवं फोकस करने के लिये चुम्बकीय क्षेत्र का प्रयोग किया जाता है। त्वरित किये जाने वाले आवेशित कणों के समूह या किरण-पुंज (बीम) धातु या सिरैमिक के एक पाइप से होकर गुजरती है, जिसमे निर्वात बनाकर रखना पड़ता है ताकि आवेशित कण किसी अन्य अणु से टकराकर नष्ट न हो जायें।

टीवी आदि में प्रयुक्त कैथोड किरण ट्यूब (CRT) भी एक अति साधारण कण-त्वरक ही है। जबकि लार्ज हैड्रान कोलाइडर विश्व का सबसे विशाल और शक्तिशाली कण त्वरक है।

कण त्वरकों का महत्व इतना है कि उन्हें 'अनुसंधान का यंत्र' (इंजन्स ऑफ डिस्कवरी) कहा जाता है।

कोलकाता मेट्रो रेल

कोलकाता मेट्रो (बंगाली: কলকাতা মেট্রো) पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में एक भूमिगत रेल प्रणाली है। इसे मंडलीय रेलवे का स्तर प्रदान किया गया है। यह भारतीय रेल द्वारा संचालित है। १९८४ में आरंभ हुई यह भारत की प्रथम भूमिगत एवं मेट्रो प्रणाली थी। इसके बाद दिल्ली मेट्रो २००२ में आरंभ हुई थी।

आरंभ में ५ लाइनों की योजाना थी, किंतु बाद में ३ ही चुनीं गईं:-

दम दम - टॉलीगंज (महानायक उत्तमकुमार) - निउ गड़िया

बिधाननगर सैक्टर-५ - रामराजतला

दक्षिणेश्वर - ठाकुरपुकुर

क्ष-किरण

क्ष-विकिरण (एक्स-रे से निर्मित) विद्युत चुम्बकीय विकिरण का एक रूप है। एक्स-रे का तरंग दैर्घ्य 0.01 से 10 नैनोमीटर तक होता है, जिसकी आवृत्ति 30 पेटाहर्ट्ज़ से 30 एग्ज़ाहर्ट्ज़ (3 × 1016 हर्ट्ज़ से 3 × 1019 हर्ट्ज़ (Hz)) और ऊर्जा 120 इलेक्ट्रो वोल्ट से 120 किलो इलेक्ट्रो वोल्ट तक होती है। एक्स-रे का तरंग दैर्ध्य, पराबैंगनी किरणों से छोटा और गामा किरणों से लम्बा होता है। कई भाषाओं में, एक्स-विकिरण को विल्हेम कॉनराड रॉन्टगन के नाम पर रॉन्टगन विकिरण कहा जाता है, जिन्हें आम तौर पर इसके आविष्कारक होने का श्रेय दिया जाता है और जिन्होंने एक अज्ञात प्रकार के विकिरण को सूचित करने के लिए इसे एक्स-रे नाम दिया था।:1-2

भेदन क्षमता के आधार पर लगभग 0.12 से 12 किलो इलेक्ट्रो वोल्ट (keV) (10 से 0.10 नैनोमीटर (nm) तरंगदैर्ध्य) वाली एक्स-रे को "मृदु" एक्स-रे के रूप में और लगभग 12 से 120 किलो इलेक्ट्रो वोल्ट (0.01 से 0.10 नैनोमीटर) तरंगदैर्घ्य वाले एक्स-रे को "दृढ़" एक्स-रे के रूप में वर्गीकृत किया जाता है।

दृढ़ एक्स-रे ठोस वस्तुओं को भेद सकती हैं और इनका सबसे ज्यादा इस्तेमाल नैदानिक रेडियोग्राफी और क्रिस्टलोग्राफी में वस्तुओं की अंदरूनी तस्वीरें लेने के लिए किया जाता है। परिणामस्वरूप, लक्षणालंकार की दृष्टि से एक्स-रे शब्द का इस्तेमाल स्वयं इस विधि के अलावा इस विधि के इस्तेमाल से उत्पन्न एक रेडियोग्राफिक तस्वीर को संदर्भित करने के लिये भी किया जाता है। इसके विपरीत, कहा जाता है कि मृदु एक्स-रेे बड़ी मुश्किल से किसी पदार्थ को पूरी तरह से भेद सकती हैं; उदाहरण के लिए, जल में 600 इलेक्ट्रो वोल्ट (~ 2 नैनोमीटर) तरंगदैर्घ्य वाली एक्स-रे का क्षीणनदैर्घ्य 1 माइक्रोमीटर से भी कम होता है।[4] एक्स-रे एक प्रकार का आयनशील विकिरण हैं और इनका अनावरण स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है।

हाल के दशकों में एक्स-रे और गामा किरणों के बीच के विभेद में बदलाव आया है। मूलतः, एक्स-रे नलियों से उत्सर्जित होने वाले विद्युत चुम्बकीय विकिरण का तरंगदैर्घ्य रेडियोधर्मी नाभिक (गामा किरणों) से उत्सर्जित विकिरण के तरंगदैर्घ्य से लंबा था। पुरातन साहित्य तरंगदैर्घ्य के आधार पर एक्स और गामा विकिरण के बीच अंतर स्थापित करता था जहां विकिरण, गामा किरणों के रूप में परिभाषित, 10−11 मीटर जैसे किसी एकपक्षीय तरंगदैर्घ्य से छोटा था।

हालांकि, अपेक्षाकृत छोटे तरंगदैर्घ्य वाले सतत स्पेक्ट्रम "एक्स-रे" स्रोतों, जैसे - रैखिक त्वरकों और अपेक्षाकृत लंबे तरंगदैर्घ्य वाले "गामा किरण" उत्सर्जकों की खोज होने के कारण तरंगदैर्घ्य के समूह बड़े पैमाने पर परस्पर आच्छादित हो गए। आजकल सामान्यतः विकिरण के दो प्रकारों को उनके मूल के आधार पर अलग किया जाता है: एक्स-रे नाभिक के बाहर स्थित इलेक्ट्रॉनों द्वारा उत्सर्जित होती हैं जबकि गामा किरणें नाभिक द्वारा उत्सर्जित होती हैं।

धारा स्रोत

धारा स्रोत (current source) वह युक्ति या एलेक्ट्रानिक परिपथ है जो एक नियत धारा देती है या लेती है, चाहे उसके सिरों के बीच विभवान्तर कुछ भी हो। उदाहरण के लिए 1.5 एम्पीयर धारा-स्रोत के सिरों के बीच 1 ओम का प्रतिरोध लागाएँ तो उसमें 1.5 अम्पीयर धारा बहेगी और स्रोत के सिरों के बीच विभवान्तर 1.5 वोल्ट होगा और यदि इस धारा स्रोत के सिरों के बीच 5 ओम का प्रतिरोध जोड़ें तो इस प्रतिरोध में भी 1.5 अम्पीयर धारा बहेगी जबकि इस स्थिति में स्रोत के सिरों के बीच विभवान्तर 7.5 (=1.5 x 5) वोल्ट हो जाएगा।

धारा स्रोत, वोल्टता-स्रोत का द्वैत (dual) है। सामाने के चित्र में धारा स्रोत का प्रतीक दिखाया गया है जो एक प्रतिरोध से जुड़ा है। धारा स्रोत दो प्रकार के होते हैं-

१) स्वतंत्र धारा स्रोत (independent current source)

२) नियंत्रित धारा स्रोत (dependent current source)(क) वोल्टता-नियंत्रित धारा स्रोत

(ख) धारा-नियंत्रित धारा स्रोत

धारिता

किसी चालक की वैद्युत धारिता (कैपेसिटी या कैपेसिटेंस), उस चालक की वैद्युत आवेश का संग्रहण करने की क्षमता की माप होती है। जब किसी चालक को आवेश दिया जाता है तो उसका वैद्युत विभव आवेश के अनुपात में बढता जाता है। यदि किसी चालक को q आवेश देने पर उसके विभव में V वृद्धि हो, तो

q अनुक्रमानुपाती V

q = CVजहाँ C एक नियतांक है जिसका मान चालक के आकार, समीपवर्ती माध्यम तथा पास में अन्य चालकोँ की उपस्थिति पर निर्भर करता है। इस नियतांक को 'वैद्युत धारिता' कहते हैँ। ऊपर के समीकरण q = CV से

C = q / Vइस प्रकार, किसी चालक की वैद्युत धारिता चालक को दिये गये आवेश तथा चालक के विभव में होने वाली व्रिद्धि के अनुपात को कहते हैँ। धारिता का SI मात्रक कूलाम/वोल्ट है। इसे 'फैरड' कहते है तथा इसे F से निरुपित करते हैं। इस प्रकार,

1 फैरड =1 कूलाम/वोल्टधारिता का emu में मात्रक ‛स्टेट फैरड’ होता है।

1 फैरड =9×1011 स्टेट फैरड

1 माइक्रोफैरड = 10-6 फैरड

1 नैनोफैरड=10-9 फैरड

1 पीकोफैरड=10-12 फैरडइसी प्रकार C=q/v से-

यदि v=1वोल्ट, C=q

तो किसी चालक की वैद्युत धारिता चालक को दी गयी आवेश की वह मात्रा है जो चालक के विभव में एक वोल्ट का परिवर्तन कर दे।

वैधुत धारिता एक अदिश राशि है। वैधुत धारिता का मान सदैव धनात्मक होता है। क्योकि चालक पर आवेश तथा इसके कारण विभव में परिवर्तन के चिन्ह सामान होते हैं।

धारिता का विमीय सूत्र -

[T×T×T×T×A×A/M×L×L] है। चालक के माध्यम का परावैद्युतांक बढ़ने से धारिता भी बढती है।

किसी चालक की धारिता निम्न तथ्यों पर निर्भर नहीं करती है-

(१) चालक के आवेश पर - q का मान बढ़ने पर v का मान भी उसी अनुपात में बढ़ता है। अतः धारिता नियत रहती है।(२) चालक के पदार्थ परनोट - यदि सूत्र c=q/v से v=0 तो c=∞ अतः धारिता अनन्त होगी। चूँकि पृथ्वी का विभव 0 होता है। तो पृथ्वी की धारिता अनन्त होगी। अतः प्रथ्वी अनन्त आवेश संगृहीत कर सकती है।

इसी प्रकार जब हम किसी चालक को आवेश देते है तो चालक के विभव का आंकिक मान बढ़ता है। यदि चालक को आवेश लगातार देते जाये तो चालक स्थतिज ऊर्जा का संचय नहीं कर पता अर्थात वैधुत रोधन क्षमता समाप्त हो जाती है। तथा आवेश लीक होने लगता है। इस स्थिति में विभव का मान अधिकतम होता है। ओर इस प्रकार चालक द्वारा आवेश की एक निश्चित मात्रा का संग्रह ही संभव है।

इसी का परोक्ष उदाहरण यह है की जब हम खाली बर्तन को जल में डालते है तो बर्तन में पानी निश्चित मात्रा तक ही बढ़ पता है और पानी तदुपरान्त बर्तन से बाहर आने लगता है। इसे बर्तन की धारिता कहते है।इसे मिलीलीटर, लीटर आदि से व्यक्त करते है।

विद्युत प्रतिरोध

किसी प्रतिरोधक के सिरों के बीच विभवान्तर तथा उससे प्रवाहित विद्युत धारा के अनुपात को उसका विद्युत प्रतिरोध (electrical resistannce) कहते हैं।इसे ओह्म में मापा जाता है। इसकी प्रतिलोमीय मात्रा है विद्युत चालकता, जिसकी इकाई है साइमन्स।

जहां

R वस्तु का प्रतिरोध है, जो ओह्म में मापा गया है, J·s/C2के तुल्य
V वस्तु के आर-पार का विभवांतर है, वोल्ट में मापा गया।
I वस्तु से होकर जाने वाली विद्युत धारा है, एम्पीय़र में मापी गयी।

बहुत सारी वस्तुओं में, प्रतिरोध विद्युत धारा या विभवांतर पर निर्भर नहीं होता, यानी उनका प्रतिरोध स्थिर रहता है।

समान धारा घनत्व मानते हुए, किसी वस्तु का विद्युत प्रतिरोध, उसकी भौतिक ज्यामिति (लम्बाई, क्षेत्रफल आदि) और वस्तु जिस पदार्थ से बना है उसकी प्रतिरोधकता का फलन है।

जहाँ

l उसकी लम्बाई है
A अनुप्रस्थ परिच्छेद क्षेत्रफल है, और
ρ वस्तु की प्रतिरोधकता है

इसकी खोज जार्ज ओह्म ने सन 1820 ई. में की। , विद्युत प्रतिरोध यांत्रिक घर्षण के कुछ कुछ समतुल्य है। इसकी SI इकाई है ओह्म (चिन्ह Ω).

विद्युत प्रदायी

विद्युत शक्ति के किसी स्रोत को सामान्य रूप से विद्युत प्रदायी या 'विद्युत प्रदायक' या 'पॉवर सप्लाई' कहा जाता है। यह शब्द अधिकांशतः वैद्युत शक्ति आपूर्ति के सन्दर्भ में ही प्रयुक्त होता है; यांत्रिक शक्ति के सन्दर्भ में यह बहुत कम प्रयुक्त होता है; अन्य उर्जा के सन्दर्भ में लगभग इसका कभी भी उपयोग नहीं होता।.

तकनीकी रूप से पॉवर सप्लाई एक एक ऐसा उपकरण है जो किसी एक प्रारूप (वोल्टेज, आवृति, एसी/डीसी) की विद्युत उर्जा के स्रोत से शक्ति/उर्जा लेकर किसी दूसरे उपकरण (जिसे लोड कहते हैं) के लिये आवश्यक प्रारूप में विद्युत उर्जा उपलब्ध कराती है। उदाहरण के लिये मोबाइल को चार्ज करने के लिये प्रयुक्त कोई पावर सप्लाई किसी २३० वोल्ट, ५० हर्ट्ज के एसी स्रोत से विद्युत उर्जा लेकर लगभग ४ वोल्ट डीसी उपलब्ध कराती है जिसे मोबाइल से जोड़ देने से वह लगभग १५० मिली एम्पीयर विद्युत धारा लेकर अपनी बैटरी को आवेशित कर लेता है। वास्तव में इसे "शक्ति आपूर्ति" कहने की अपेक्षा "शक्ति परिवर्तक" (Power Converter) कहना अधिक सार्थक है।

विद्युतवाहक बल

भौतिकी में मोटे तौर पर विद्युतवाहक बल (electromotive force, या emf) वह कारण है जो विद्युत धारा (या एलेक्ट्रॉन / आयन) को परिपथ में प्रवाहित करता है।

किन्तु विद्युतवाहक बल की औपचारिक परिभाषा इस प्रकार है :

किसी परिपथ के दो खुले सिरों (टर्मिनल्स) के बीच ईकाई आवेश को प्रवाहित करने में किये गये कार्य की मात्रा को उन दो बिन्दुओं के बीच का विद्युतवाहक बल कहते हैं। विद्युत वाहक बल का मात्रक वोल्ट है।

वोल्टीय सेल, विद्युतउष्मीय युक्तियाँ, सौर सेल, विद्युत जनित्र, फान डी ग्राफ आदि कुछ विद्युतवाहक बल उत्पन्न करने वाले सामान हैं।

विभवांतर

[पकक[चित्र:Electrostatic definition of voltage.svg|right|thumb|250px|विद्युत आवेश के कारण उत्पन्न स्थैतिक विद्युत क्षेत्र में स्थित किसी बिन्दु से दूसरे बिन्दु तक इकाई धनावेश को ले जाने में जितना कार्य करना पड़ता है वही उन दो बिन्दुओं के बीच विभवान्तर होता है। ज्ञातव्य है कि स्थैतिक विद्युत क्षेत्र में किए गये कार्य की यह मात्रा, आवेश द्वारा चले गये पथ पर निर्भर नहीं करता।]]

किन्हीं दो बिन्दुओं के विद्युत विभवों के अंतर को विभवान्तर (पोटेन्शियल डिफरेन्स) या 'वोल्टता' (voltage) कहते हैं। दूसरे शब्दों में, इकाई धनावेश को एक बिन्दु से दूसरे बिन्दु तक ले जाने में किए गए कार्य को उन दो बिन्दुओं के बीच का विभवान्तर कहते हैं। विभवान्तर को वोल्टमापी द्वारा मापा जाता है। वोल्टता, किसी स्थैतिक विद्युत क्षेत्र के द्वारा, विद्युत धारा के द्वारा, किसी समय के साथ परिवर्तनशील चुम्बकीय क्षेत्र के कारण या इनमें से किसी दो या अधिक के कारण पैदा होता है।

विभवान्तर की ईकाई वोल्ट

इसे v से व्यक्त करते हे।

v=w/q अर्थात w=कार्य, q=आवेश

चूँकि जब हम किसी बिंदु आवेश को किसी दूसरे आवेश के वैद्युत क्षेत्र में एक स्थान b से दूसरे स्थान a तक ले जाते है। तो हमें वैद्युत बल के विरुद्ध कार्य करना पड़ता है। यही कार्य उन दोनों स्थानों के बीच वैधुत विभवांतर है।

सूत्र-

Va-Vb = W/q

जहाँ w आवेश को b से a तक ले जाने में किया कार्य है।

वैद्युत-रासायनिक सेल

उन सभी युक्तियों को वैद्युत-रासायनिक सेल (electrochemical cell) कहते हैं जो रासायनिक अभिक्रिया के माध्यम से विद्युत ऊर्जा उत्पन्न करते हैं या जिनमें विद्युत ऊर्जा देने से उनके अन्दर रासायनिक अभिक्रिया होने लगती है या उसकी गति बढ़ जाती है। 1.5-वोल्ट का शुष्क सेल इसका एक सर्वसामान्य उदाहरण है। कई सेलों को श्रेणीक्रम या समान्तर क्रम में जोड़ने से बैटरी बनती है। वाहनों की १२ वोल्ट की बैटरी इसका आम उदाहरण है।

वॉट

वॉट (चिह्न: W) शक्ति की SI व्युत्पन्न इकाई है। यह ऊर्जा के परिवर्तन या रूपान्तरण की दर मापती है। एक वॉट - १ जूल (J) ऊर्जा प्रति सैकण्ड के समकक्ष होती है।

यांत्रिक ऊर्जा के संबंध में, एक वॉट उस कार्य को करने की दर होती है, जब एक वस्तु को १ मीटर प्रति सैकण्ड की गति से १ न्यूटन के बल के विरुद्ध ले जाया जाये।

1W = 1Js-1 = 1kgm2s-3 = 1Nms-1पोटेन्शियल डिफरेन्स (वोल्ट) और विद्युत धारा (एम्पीयर) की परिभाषा अनुसार, कार्य १ वॉट की दर से किया गया होता है, जब १ एम्पीयर विद्युत धारा, १ वोल्ट पोटेन्शियल डिफरेन्स पर बहती है।

1W1V×1A

शुष्क सेल

शुष्क सेल (dry cell) एक प्रकार के विद्युतरासायनिक सेल है जो कम बिजली से चल सकने वाले पोर्टेबल विद्युत-युक्तियों (जैसे ट्रांजिस्टर रेडियो, टार्च, कैलकुलेटर आदि) में प्रयुक्त होते हैं। इसके अन्दर जो विद्युत अपघट्य (electrolyte) उपयोग में लाया जाता है वह लेई-जैसा कम नमी वाला होता है। इसमें किसी द्रव का प्रयोग नहीं किया जाता जिसके कारण इसे "शुष्क" सेल कहा जाता है। (कार आदि में प्रयुक्त बैटरियों में प्रयुक्त विद्युत अपघट्य द्रव के रूप में होता है।) चूंकि इसमें कुछ भी चूने (लीक) लायक द्रव नहीं होता, पोर्टेबल युक्तियों में इसका उपयोग सुविधाजनक होता है।

सामान्यत: प्रयोग में आने वाला शुष्क सेल वस्तुत: एक जिंक-कार्बन बैटरी होती है जिसे शुष्क लेक्लांची सेल (Leclanché cell) भी कहते हैं। इसकी सामान्य स्थिति (बिना धारा की स्थिति में) में वोल्टता १.५ वोल्ट होती है जो कि अल्कलाइन बैटरी के सामान्य वोल्टता के बराबर ही है। जहाँ १.५ वोल्ट से अधिक वोल्टेज की जरूरत होती है वहाँ कई ऐसे सेल श्रेणी क्रम (series) में जोड़ दिये जाते हैं। (३ सेल श्रेणी क्रम में जोड़ने पर ४.५ वोल्ट देते हैं; ९ वोल्ट की बहुप्रचलित बैटरी में ६ कार्बन-जिंक या अल्कलाइन-सेल सीरीज में जुड़े होते हैं)। इसी तरह जहाँ अधिक धारा की आवश्यकता होती है वहाँ कई सेलों को समान्तर क्रम (parallel) में जोड़ दिया

शेव्रोले वोल्ट

शेव्रोले वोल्ट एक अमेरिकी कार निर्माता, जनरल मोटर्स द्वारा निर्मित एक प्लग-इन हाइब्रिड कार है. इसे चीन में बुइक वेलाइट 5 के रूप में, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में होल्डन वोल्ट, और एक अलग बनावट के साथ वॉक्सहॉल एम्पेरा के रूप में, यूनाइटेड किंगडम और यूरोप के बाकी हिस्सों में ओपल अम्पेरा के नाम से पुनर्निर्मित रूपों में भी विपणन किया (बेचा) जाता है। इस कि बिक्री यूएस में मध्य दिसंबर २०१० से, और यूरोप में २०११ से शुरु हुई।वोल्ट एक शुद्ध बैटरी इलेक्ट्रिक वाहन के रूप में काम करती है जब तक इसकी बैटरी क्षमता पूर्ण चार्ज से पूर्व निर्धारित सीमा तक गिर ना जाए। वहां से इसका आंतरिक दहन इंजन आवश्यकतानुसार वाहन की सीमा का विस्तार करने के लिए एक विद्युत जनरेटर को शक्ति देता है। जब इंजन चलता है, तो ऊर्जा दक्षता में सुधार करने के लिए, यह समय-समय पर यांत्रिक रूप से (एक क्लच द्वारा) एक ग्रह गियर सेट से, और इसलिए आउटपुट ड्राइव धुरी से जुड़ जाता है । वोल्ट की रिजेनरेटीव ब्रेकिंग ऑन-बोर्ड बिजली उत्पादन में भी योगदान देती है। संयुक्त राज्य अमेरिका पर्यावरण संरक्षण एजेंसी (ईपीए) चक्र के तहत, 2013/15 मॉडल वर्ष वोल्ट की ऑल-इलेक्ट्रिक रेंज 38 मील (61 किमी) है, संयुक्त इलेक्ट्रिक मोड / गैसोलीन-केवल 62 एमजीपी-यूएस (3.8 एल / 100 किमी; 74 एमजीपी-आईपी) के बराबर (एमपीजी समकक्ष)।

श्रेणीक्रम और समानांतरक्रम परिपथ

बहुत से विद्युत या इलेक्ट्रॉनिक घटकों या अवयवों को जोड़कर विद्युत परिपथ बनते हैं। परिपथों में घटक दो प्रकार से जोड़े जा सकते हैं:

श्रेणीक्रम और समानांतरक्रम में। जिस परिपथ में सभी घटक श्रेणीक्रम में जुड़े हों, उसे श्रेणी परिपथ और जिस परिपथ में सभी घटक समानांतर क्रम में जुड़े हों उसे समानांतर परिपथ कहा जा सकता है। श्रेणी परिपथ में हरेक घटक से समान धारा प्रवाहित होती है, जबकि समानांतर परिपथ में हरेक घटक पर समान वोल्टता उपलब्ध होती है। श्रेणी परिपथों में प्रत्येक घटक का कार्यरत रहना आवश्यक है, अन्यथा परिपथ टूट जायेगा। समांतर परिपथों में कोई भी घटक खराब होने पर भी शेष घटक कार्य करते रहेंगे, किन्तु किसी भी घटक को शॉर्ट सर्किट होने पर पूरा परिपथ शॉर्ट-सर्किट हो सकता है।

यदि किसी परिपथ में किसी स्थान पर १० ओम के प्रतिरोध की आवश्यकता है किन्तु वह उपलब्ध नहीं है किन्तु ५-५ ओम के दो प्रतिरोध सुलभ हैं तो इनको श्रेणीक्रम में जोड़कर लगाया जा सकता है। इसी प्रकार यदि २०-२० ओम के दो प्रतिरोध उपलब्ध होने पर उन्हें समान्तरक्रम में जोड़ देने से १० ओम का तुल्य प्रतिरोध प्राप्त हो जाता है। डेढ़-दो वोल्ट सहन कर सकने वाले सैकड़ों बल्बों को श्रेणीक्रम में जोड़कर २३० वोल्ट से घरेलू बिजली से उनको जगमगाया जाता है। कहीं पर २४ वोल्ट की जरूरत हो तो १२ वोल्ट वाली दो बैटरियों को श्रेणीक्रम में जोड़कर २४ वोल्ट प्राप्त किया जा सकता है। परिपथों में भिन्न प्रकार के अवयव भी श्रेणीक्रम या समान्तरक्रम में जुड़े हो सकते हैं उदाहरण के लिये डायोड की रक्षा के लिये उसके श्रेणीक्रम में उपयुक्त मान का फ्यूज लगा दिया जाता है; या पंखे को चालू/बंद करने के लिये उसके श्रेणीक्रम में एक स्विच डाला जाता है। इसी तरह किसी विद्युत-अपघट्टीय संधारित्र में उल्टी दिशा में वोल्टता न लग जाये इसके लिये उसके समान्तरक्रम में एक डायोड (उचित पोलैरिटी में) डाल दिया जाता है। किसी स्थान पर २ अम्पीयर धारा वहन कर सकने वाला डायोड लगाना हो तो १ एम्पीयर धारा वहन कर सकने वाले दो डायोड समान्तरक्रम में लगा देने से भी काम चल सकता है।

सौर पवन

सौर वायु (अंग्रेज़ी:सोलर विंड) सूर्य से बाहर वेग से आने वाले आवेशित कणों या प्लाज़्मा की बौछार को नाम दिया गया है। ये कण अंतरिक्ष में चारों दिशाओं में फैलते जाते हैं। इन कणों में मुख्यतः प्रोटोन्स और इलेक्ट्रॉन (संयुक्त रूप से प्लाज़्मा) से बने होते हैं जिनकी ऊर्जा लगभग एक किलो इलेक्ट्रॉन वोल्ट (के.ई.वी) हो सकती है। फिर भी सौर वायु प्रायः अधिक हानिकारक या घातक नहीं होती है। यह लगभग १०० ई.यू (खगोलीय इकाई) के बराबर दूरी तक पहुंचती हैं। खगोलीय इकाई यानि यानि एस्ट्रोनॉमिकल यूनिट्स, जो पृथ्वी से सूर्य के बीच की दूरी के बराबर परिमाण होता है। १०० ई.यू की यह दूरी सूर्य से वरुण ग्रह के समान है जहां जाकर यह अंतरतारकीय माध्यम (इंटरस्टेलर मीडियम) से टकराती हैं। अमेरिका के सैन अंटोनियो स्थित साउथ वेस्ट रिसर्च इंस्टिट्यूट के कार्यपालक निदेशक डेव मैक्कोमास के अनुसार सूर्य से लाखों मील प्रति घंटे के वेग से चलने वाली ये वायु सौरमंडल के आसपास एक सुरक्षात्मक बुलबुला निर्माण करती हैं। इसे हेलियोस्फीयर कहा जाता है। यह पृथ्वी के वातावरण के साथ-साथ सौर मंडल की सीमा के भीतर की दशाओं को तय करती हैं। हेलियोस्फीयर में सौर वायु सबसे गहरी होती है। पिछले ५० वर्षों में सौर वायु इस समय सबसे कमजोर पड़ गई हैं। वैसे सौर वायु की सक्रियता समय-समय पर कम या अधिक होती रहती है। यह एक सामान्य प्रक्रिया है।

आधार इकाई
विशेष नाम के साथ व्युत्पन्न इकाइयाँ

अन्य भाषाओं में

This page is based on a Wikipedia article written by authors (here).
Text is available under the CC BY-SA 3.0 license; additional terms may apply.
Images, videos and audio are available under their respective licenses.