वंश

किसी एक ही परिवार से एक के बाद एक शासन करने वाले व्यक्तियों को वंश (dynasty) कहते हैं।

Tutmask
Tutankhamun was a member of the Eighteenth dynasty of Egypt.

क्षेत्र के अनुसार वंश

अफ्रीका

चाड

  • Duguwa dynasty (c. 700 – c. 1075)
  • Sayfawa dynasty (c. 1075 – 1846)

मिस्र

  • 1st dynasty (c. 3050 – 2890 BC)
  • 2nd dynasty (2890 – 2686 BC)
  • 3rd dynasty (2686 – 2613 BC)
  • 4th dynasty (2613 – 2498 BC)
  • 5th dynasty (2498 – 2345 BC)
  • 6th dynasty (2345 – 2181 BC)
  • 7th and 8th dynasties (2181 - 2160 BC)
  • 9th dynasty (2160 – 2130 BC)
  • 10th dynasty (2130 – 2040 BC)
  • 11th dynasty (2134 – 1991 BC)
  • 12th dynasty (1991 – 1803 BC)
  • 13th dynasty (1803 – 1649 BC)
  • 14th dynasty (1705 – 1690 BC)
  • 15th dynasty (1674 – 1535 BC)
  • 16th dynasty (1660 – 1600 BC)
  • 17th dynasty (1650 – 1549 BC)
  • 18th dynasty (1549 – 1292 BC)
  • 19th dynasty (1292 – 1186 BC)
  • 20th dynasty (1186 – 1069 BC)
  • 21st dynasty (1069 – 945 BC)
  • 22nd dynasty (945 – 720 BC)
  • 23rd dynasty (837 – 728 BC)
  • 24th dynasty (732 – 720 BC)
  • 25th dynasty (732 – 653 BC)
  • 26th dynasty (672 – 525 BC)
  • Achaemenid dynasty (525 – 404 BC)
  • 28th dynasty (404 – 398 BC)
  • 29th dynasty (398 – 380 BC)
  • 30th dynasty (380 – 343 BC)
  • Achaemenid dynasty (343 – 332 BC)
  • Argead dynasty (332 – 309 BC)
  • Ptolemaic Dynasty (305 – 30 BC)
  • Julio-Claudian Dynasty (27 BC – AD 68)
  • Flavian Dynasty (69 – 96)
  • Nervan-Antonian Dynasty (96 – 192)
  • Severan Dynasty (193 – 235)
  • Constantinian dynasty (303 – 336)
  • Valentinian Dynasty (364 – 457)
    • House of Theodosius from 379
  • Leonid dynasty (457 – 518)
  • Justinian Dynasty (518 – 602)
  • Sassanian dynasty
  • Heraclian Dynasty (602 – 695 and 705 – 711)
  • Rashidun Caliphate
  • Umayyad Caliphate
  • Abbasid Caliphate
  • Mamelukes
  • Ottoman Sultanate
  • Muhammad Ali Dynasty (1805 – 1953)

इथियोपिया

  • Aksumite Empire
  • Zagwe dynasty (c. 900 – 1270)
  • Solomonic dynasty (1270 – 1974)
  • Mudaito Dynasty (1734 –वर्तमान)

गीनिया (Guinea)

  • Keita dynasty (c. 1200 – 1670)

मोरक्को

  • Idrisid dynasty (789 – 974)
  • Maghrawa dynasty (987 – 1070)
  • Almoravid dynasty (1073 – 1147)
  • Almohad dynasty (1147 – 1269)
  • Marinid dynasty (1258 – 1420)
  • Wattasid dynasty (1420 – 1554)
  • Saadi dynasty (1554 – 1659)
  • Alaouite dynasty (1666 onwards)

नाइजेरा

  • Eri dynasty of the Igbo and Igala peoples
  • Eweka dynasty of Benin (a cadet branch of the Ooduan dynasty)
  • Ibn Fodio dynasty of Sokoto and Gwandu
  • Jaja dynasty of Opobu
  • Modibo Adama dynasty of Adamawa
  • el-Kanemi dynasty of Bornu
  • Ooduan dynasty of Ife, Egba, Ketu, Sabe, Oyo, Ijero and the Ilas
  • Asodeboyede dynasty of Akure (a cadet branch of the Ooduan dynasty)
  • Ologun Kutere dynasty of Lagos (a cadet branch of the Ooduan dynasty)
  • Sayfawa dynasty of Bornu

सोमालिया

  • Gareen Dynasty
  • Walashma Dynasty
  • Gobroon Dynasty
  • Gerad Dynasty
  • Hobyo Dynasty

दक्षिण अफ्रीकाS

  • Zulu Royal Family
  • Rain Queen dynasty
  • Transkeian dynasty of the Thembus (which counts Nelson Mandela as a non-regnal member)

एशिया

अफगानिस्तान

  • Durrani Dynasty (1747 – 1823 and 1839 – 1842)
  • Barakzai Dynasty (1818 – 1839, 1842 – 1929 and 1929 – 1973)
  • Usurper King (January 17, 1929 - October 13, 1929)

भूटान

  • House of Wangchuck (1907–वर्तमान)

भारत

  • नैयर वंश (pre-Vedic-18th century AD)
  • नंद वंश (424 – 321 BCE)
  • मौर्य वंश (321 – 184 BCE)
  • सुंग वंश (185 – 73 BCE)
  • Jadeja/Sama dynasty (divided from Chandravansh.2000BC – 1948AC some places of India)
  • Kanva dynasty (75 – 26 BCE)
  • Satavahana dynasty (230 BCE – 220 CE)
  • Chera dynasty (300 BCE – 1200 CE)
  • Chola dynasty (278 BCE – 1279 CE)
  • Pandya dynasty (300 BCE – 1345 CE)
  • Pallava dynasty (250 BCE – 800 CE)
  • Kushāṇa dynasty (60 – 240 CE)
  • Vakataka dynasty (250 – 500 CE)
  • Gupta dynasty (280 – 550 CE)
  • Western Ganga dynasty (350 – 1000 CE)
  • Vishnukundina dynasty (420 – 624 CE)
  • Shahi dynasty (6th to 12th century)
  • Chalukya dynasty (6th to 12th century)
  • Pratihara dynasty (650 – 1036 CE)
  • Pala dynasty (750 – 1174 CE)
  • Rashtrakuta dynasty (753 – 982 CE)
  • Tibetan empire (7th to the 11th century)
  • Paramara dynasty (800 – 1327 CE)
  • Yadava dynasty (850 – 1334 CE)
  • Solanki dynasty (942 – 1244 CE)
  • Hoysala dynasty (1040 – 1346 CE)
  • Sena dynasty (1070 – 1230 CE)
  • Eastern Ganga dynasty (1078 – 1434 CE)
  • Kakatiya dynasty (1083 – 1323 CE)
  • Travancore dynasty (1102 – 1949 CE)
  • Ahom dynasty (1228 – 1826 CE)
  • Sultanate dynasties (1206 – 1526 CE)
  • Vijayanagara dynasty (1336 – 1646 CE)
  • Mughal dynasty (1526 – 1803 CE)
  • Maratha dynasty (1674 – 1818 CE)
  • Nehru-Gandhi dynasty (1947 CE -)

चीन

  • Five Emperors (2852 – 2205 BC)
  • Xia Dynasty (2100 – 1600 BC)
  • Shang Dynasty (1600 – 1046 BC)
  • Zhou Dynasty (1046 – 256 BC)
  • Warring States Period (475 – 221 BC) (Several of the Dynasties in the Warring States were descended from the Zhou royal family)[1]
    • State of Song (part of warring states) The rulers of the state of Song were descendants of the Shang royal family.[1]
    • State of Yue (part of warring states) The kings of Yueh claimed descent from the royal family of the Xia dynasty.[2]
    • State of Wu Same royal family as Zhou dynasty
    • State of Jin Same royal family as Zhou dynasty
    • State of Ba (barbarian state, non sinicized)
  • Qin Dynasty (221 – 206 BC) (The royal family of Qin ruled the State of Qin during warring states) (They also claimed descent from one of the Five emperors, Zhuanxu)
  • Han Dynasty (206 BC – 220)
    • Minyue - same royal family as state of yueh- they fled when conquered by Chu and established Minyue, Min yue coexisted with the Warring states period, Qin, and Han dynasty until han conquered it.
    • Nanyue (South Yue) - Proto-Cantonese state founded by Qin general Zhao Tuo. (It is also Vietnam's Trieu Dynasty.)
    • Xin Dynasty (AD 9 – 23) Xin dynasty inturepted the han dynasty, splitting it into east and west periods
  • Three Kingdoms (220 – 265) (The emperor of Shu was a descandant of the Han Dynasty royal family)
  • Jin Dynasty (265–420)
  • Northern Wei (controlled northern China to the Huai river) (386 – 534)
  • Southern and Northern Dynasties (420 – 589)
  • Sui Dynasty (581 – 618)
  • Tang Dynasty (618 – 907) (The Tang Emperors were members of the Li family, descended from a ruler in the Southern and Northern Dynasties)
    • Second Zhou Dynasty (690 – 705) Interrupted Tang dynasty
  • Liao Dynasty (Khitan) (907 – 1125) (controlled the 16 prefectures)
  • Five Dynasties and Ten Kingdoms Period (907 – 960)
  • Song Dynasty (960 – 1279)
  • Jin Dynasty (Jurchen) (controlled northern China to the Huai river) (1115–1234)
  • Yuan Dynasty (Mongol) (1271 – 1368)
  • Ming Dynasty (1368 – 1644)
  • Shun Dynasty (1644)
  • Qing Dynasty (Manchu) (1644 – 1912)
    • Kingdom of Tungning (Taiwan, with Han Chinese rulers) (1662 – 1683)
  • Empire of China (1915 – 1916)

मध्य एशिया

  • Tamerlane Timurid
  • Ghaznavid Empire
  • Ghurid Empire
  • Ottoman Empire
  • Seljuq Khanate
  • Mughal Empire Mughulistan
  • Durrani Empire
  • Chagatai Khanate
  • Hotaki Dynasty
  • Suri Dynasty
  • Mamluk Sultanate
  • Khilji Dynasty
  • Tughlaq Khanate
  • Lodhi Dynasty
  • Khwarazm Dynasty
  • Samanid Dynasty

इजराइल

  • Davidic Dynasty
  • Hasmonean Dynasty
  • Achaemenid dynasty (343 – 332 BC)
  • Argead dynasty (332 – 309 BC)
  • Ptolemaic Dynasty (305 – 30 BC)
  • Herodian Dynasty
  • Julio-Claudian Dynasty (27 BC – AD 68)
  • Flavian Dynasty (69 – 96)
  • Nervan-Antonian Dynasty (96 – 192)
  • Severan Dynasty (193 – 235)
  • Constantinian dynasty (303 – 336)
  • Valentinian Dynasty (364 – 457)
    • House of Theodosius from 379
  • Leonid dynasty (457 – 518)
  • Justinian Dynasty (518 – 602)
  • Heraclian Dynasty (602 – 695 and 705 – 711)

जापान

  • Yamato dynasty, Imperial house of Japan (660 BC–वर्तमान, with power fluctuating between absolute ruler to ceremonial figurehead to constitutional monarch)
  • Shunten Dynasty (1187 – 1259)
  • Eiso dynasty (1260 – 1349)
  • Hokuzan (1314 – 1419)
  • Chuzan (1314 – 1429)
  • Nanzan (1314 – 1429)
  • First Shō Dynasty (1406 – 1469)
  • Second Shō Dynasty (1469 – 1879)

कोरिया

  • Gojoseon (2333 – 108 BCE)
  • Proto–Three Kingdoms (108 – 57 BCE)
  • Three Kingdoms of Korea (57 BCE – 668)
    • Silla (57 BCE – 935)
    • Goguryeo (37 BCE – 668)
    • Baekje (18 BCE – 660)
    • Gaya (42 CE – 562)
  • North-South States (698 – 935)
    • Unified Silla (668 – 935)
    • Balhae (698 – 926)
    • Later Three Kingdoms (892 – 936)
  • Goryeo Dynasty (918 – 1392)
  • Joseon Dynasty (1392 – 1897)
  • Korean Empire (1897 – 1910)

मालदीव

  • House of Theemuge (1117 – 1388)
  • Hilaalee dynasty (1388 – 1558)
  • (1558 – 1573) Interregnum
  • Utheemu dynasty (1573 – 1692)
  • (1692 – 1701) Kings who do not belong to a particular dynasty.
  • Isdhoo dynasty (1701 – 1704)
  • Dhiyamigili dynasty (1704 – 1757)
  • Huraa dynasty (1757 – 1766)
  • Dhiyamigili dynasty (1766 – 1773)
  • Huraa dynasty (1773 – 1953)
  • (1953 – 1953) Republic (President Muhammad Amin Didi).
  • Huraa dynasty (1953 – 1968)
  • (1968 – 1978) Republic (President Ibrahim Nasir).
  • (1978 – 2008) Republic (President Maumoon Abdul Gayoom).

मलेशिया

  • White Rajahs (1841 – 1946)

मंगोलिया

  • मंगोल साम्राज्य (1206 – 1368)
    • Yuan Dynasty (1271 – 1368)
    • Golden Horde (1240s – 1502)
    • Ilkhanate (1256 – 1335)
    • Chagatai Khanate (1225 – 1687)
  • Northern Yuan Dynasty (1368 – 1634)
  • Qing Dynasty (1644 – 1912)

म्यांमार (बर्मा)

  • Toungoo dynasty (1486 – 1752)
  • Konbaung dynasty (1752 – 1885)

फिलीपींस

Royal Families

  • Malay Dynasties
    • The Datu Puti Lineage (Ruled the defunct Confederation of Madya-as) (1200s – 1565)
  • हिन्दू वंश
    • The Lakandula Dynasty (Ruled the defunct Kingdom of Tondo) (1150 – 1589)
    • The House of Tupas (Ruled the defunct Rajahnate of Cebu) (up to 1565)
    • The House of Sri Bata Shaja(Ruled the defunct Rajahnate of Butuan) (989 – 1586)
  • मुस्लिम वंश
    • The Ud-Din Royal Hashemite Family (A dynasty which ruled the Maguinadanao Sultanate) (1480 – 1830)
    • The Kiram Royal Hashemite Family (Rules the Sulu Sultanate) (1823 – Present)

श्री लंका

  • Polonnaruwan Dynasty
  • Aryacakravartese Dynasty
  • Ceilão Dynasty
  • Zeylan Dynasty
  • Kandy Dynasty
  • Ceylon Dynasty
  • Dominion Dynasty
  • First Sinhalese Dynasty
  • Eelamese Dynasty
  • Second Sinhalese Dynasty
  • Raigaman Dynasty
  • Kotte Dynasty
  • Sitawakan Dynasty
  • Kandy Dynasty
  • Ceylon Dynasty
  • Dominion Dynasty
  • Sinhalese Dynasty

Saudi Arabia

  • House of Saud (1932–वर्तमान)

तिब्बत

  • Yarlung Dynasty (up to 842)
  • Sakya lama (13–14th century, but subordination to the Mongol Yuan Dynasty)
  • Phagmodrupa Dynasty
  • Dalai Lama (1492 – 1959, but subordination to Manchu Qing Dynasty between 1720 and 1912)

थाईलैण्ड

  • Hari Pun Chai dynasty (663 – 1293)
  • Phra Roung dynasty (Sukhothai Kingdom) (1237 – 1438)
  • Mangrai dynasty (1261 – 1578)
  • Eu Thong dynasty (1350 – 1370), (1388 – 1409)
  • Suphanabhumi dynasty (1370 – 1350), (1409 – 1569)
  • Phra Roung Dynasty (Ayutthaya Kingdom) (1569 – 1629)
  • Prasart Thong dynasty (1629 – 1688)
  • Bann Plu Luang dynasty (1688 – 1767)
  • Tipchakratiwong dynasty (Seven princes dynasty) (Lanna Kingdom) (1732 – 1932)
  • Thonburi dynasty (1767 – 1782)
  • Chakri dynasty (1782 onwards)

तुर्की

  • Seljuq Dynasty (1077 – 1307)
  • Ottoman Dynasty (1281 – 1923)

वियतनाम

  • Hồng Bàng Dynasty (2919 – 258 BC)
  • Thục Dynasty (257 – 207 BC)
  • Triệu Dynasty (207 – 111 BC)
  • Han Dynasty (Chinese) (111 BC – 39 AD and 43 – 220)
  • Trưng Sisters (40 – 43)
  • Eastern Wu Dynasty (Chinese) (229 – 280)
  • Jin Dynasty (Chinese) (280 – 420)
  • Southern Qi Dynasty (Chinese) (479 – 502)
  • Liang Dynasty (Chinese) (502 – 544)
  • Anterior Lý Dynasty (544 – 602)
  • Sui Dynasty (Chinese) (602 – 618)
  • Tang Dynasty (Chinese) (618 – 905)
  • Khúc Family (906 – 930)
  • Ngô Dynasty (939 – 967)
  • Đinh Dynasty (968 – 980)
  • Prior Lê Dynasty (980 – 1009)
  • Lý Dynasty (1009 – 1225)
  • Trần Dynasty (1225 – 1400)
  • Hồ Dynasty (1400 – 1407)
  • Posterior Trần Dynasty (1407 – 1413)
  • Ming Dynasty (Chinese) (1414 – 1427)
  • Later Lê Dynasty (1428 – 1527 and 1533 – 1788)
  • Mạc Dynasty (1527 – 1677)
  • Trịnh Lords (1545 – 1787)
  • Nguyễn Lords (1558 – 1777)
  • Tây Sơn Dynasty (1778 – 1802)
  • Nguyễn Dynasty (1802 – 1945)
  • House of Bonaparte (European) (1870)
  • 1st dynasty (192 - 336)
  • 2nd dynasty (336 - 420)
  • 3rd dynasty (420 - 529)
  • 4th dynasty (529 - 758)
  • 5th dynasty (758 - 854)
  • 6th dynasty (854 - 989)
  • 7th dynasty (989 - 1044)
  • 8th dynasty (1044–1074)
  • 9th dynasty (1074–1139)
  • 10th dynasty (1139–1145)
  • 11th dynasty (1145–1190)
  • 12th dynasty (1190–1318)
  • 13th dynasty (1318–1390)
  • 14th dynasty (1390–1458)
  • 15th dynasty (1458–1471)
  • vacant (1471–1695)
  • Dynasty of Po Saktiraidaputih (1695–1822)

यूरोप

Austria

  • House of Habsburg (1273-1918)

Albania

  • Progon Dynasty (1190–1216)
  • Angevin (1272–1368)
  • Kastrioti (1444–1468)
  • Wied (1914)
  • Zogu (1928–1939)

Armenia

  • Orontid Dynasty
  • Artaxiad Dynasty or the Artashesi Dynasty (189 BC-12 AD)
  • Arsacid Dynasty or the Arshakuni Dynasty (54-428)
  • Bagratuni Dynasty or the Bagratid Dynasty of Armenia (885-1045)
  • Rubenid Dynasty or the Armenian Kingdom of Cilicia (1080–1225)

Belgium

  • House of Saxe-Coburg and Gotha (1831–वर्तमान)

Bosnia

  • House of Boričević (1154–1163, 1536-)
  • House of Kulinić (1163–1250)
  • House of Kotromanić (1250–1463)
  • House of Berislavić, deposed (1463–1536)

Bulgaria

  • House of Dulo (632 - 753)
    • Krum's dynasty (777 - 976/997)
    • Cometopuli dynasty (976/997 - 1018)
  • House of Asen (1187–1280)
  • House of Terter (1280–1331)
  • House of Sratsimir (1331–1422)
  • Battenberg family (1878–1886)
  • House of Saxe-Coburg and Gotha (1886–1947)

Barbarians

  • Agilolfing Dynasty
  • Merovingian Dynasty (481-751)
  • Carolingian Dynasty (751-843)
  • Arnulfings or Pippinids, mayors of the palaces

This is a list of rulers of the Huns. Period Ruler

  • Vund c. 360
  • Balamber 360 - 378
  • Baltazár (Alypbi) 378 - 390
  • Uldin (Khan of the Western Huns) 390 - 410
  • Donatus (Khan of the Eastern Black Sea Huns & beyond) 410 - 412
  • Charaton (Aksungur) 412 - 422
  • Octar[1] 422 - 432
  • Rugila 432-434
  • Bleda with Attila c. 434-c. 445
  • Attila "the Hun" c. 434-453
  • Ellac 453-c. 455
  • Tuldila fl. c. 457
  • Dengizich (Sabirs attack c.460-463) ?-469 with Hernach/BelkErmak
  • Hernach/BelkErmak[2] 469-503
  • House of Dulo Bulgaria (390-503) A Nominalia of the Bulgarian khans genealogy claims that the Dulo clan is descended from Attila the Hun.
  • Edeko
  • Odoacer (435–493), was the 5th-century King of Italy
See Early kings of the Lombards.
  • Lething Dynasty (until early 6th century)
  • Gausian Dynasty (546-572)
  • Bavarian Dynasty (616-712)
  • Amal Dynasty (before 474-536)
  • Suebic Dynasty (409-585)
  • Hasdingi (before 407-534)
  • Balthi Dynasty (395-531)

Byzantine Empire

  • Constantinian dynasty (303-336)
  • Valentinian Dynasty (364-457)
    • House of Theodosius from 379
  • Leonid dynasty (457-518)
  • Justinian Dynasty (518-602)
  • Heraclian Dynasty (602-695 and 705-711)
  • Isaurian Dynasty (717-802)
  • Phrygian Dynasty (820-867)
  • Macedonian Dynasty (867-1056)
  • Komnenid Dynasty (1057–1059 and 1081–1185)
  • Doukid Dynasty (1059–1081)
  • Angelid Dynasty (1185–1204)
  • Laskarid Dynasty (1204–1261), in exile in Nicaea
  • Palaiologid Dynasty (1261–1453)

Croatia

  • Trpimirović Dynasty (845-1091)
  • Árpád Dynasty (c.1102-1301)
  • Přemyslid Dynasty (1301–1305)
  • House of Wittelsbach (1305–1308)
  • Capetian Dynasty, House of Anjou (1308–1395)
  • House of Luxemburg (1387–1437)
  • Habsburg Dynasty (1437–1457, 1526-1918)
  • Jagiellonian Dynasty (1440–1526)
  • Zápolya Dynasty (1526–1571)
  • Habsburg Dynasty (1526-1918)

Denmark

  • see List of Danish monarchs (-1412)
  • House of Oldenburg (1448-1863)
    • House of Schleswig-Holstein-Sonderburg-Glücksburg (1863 to the present)

France

  • Carolingian Dynasty (843-987)
  • Capetian Dynasty (987-1792, 1814–1848)
    • Direct Capetians (987-1328)
    • House of Valois (1328–1589)
      • Direct House of Valois (1328–1498)
      • House of Valois-Orléans (1498–1515)
      • House of Valois-Angoulême (1515–1589)
    • House of Bourbon (1589–1792 and 1814–1848)
      • House of Bourbon-Vendôme (1589–1792, 1814–1830)
      • House of Bourbon-Orléans (1830–1848)
  • Bonaparte Dynasty (1804–1814 and 1852–1870)

Georgia

  • Pharnabazid Dynasty (299-90 BC, 30BC-189 AD)
  • Artaxiad Dynasty (90-30 BC)
  • Arsacid Dynasty (189-284 AD)
  • Chosroid Dynasty (284-580, 627-684)
    • Guaramid Dynasty (588-627, 684-748, 779-786)
  • Nersianid Dynasty (748-780)
  • Bagratid (Bagrationi) dynasty (813-1810)

Germany

  • Carolingian Dynasty (843-911)
  • Conradines (911-918)
  • Ottonian Dynasty (919-1024)
  • Salian Dynasty or Franconian Dynasty (1024–1125)
  • Supplinburger Dynasty (1125–1137)
  • House of Hohenstaufen (1137–1254)
  • House of Habsburg (1273–1291, 1298–1308, and 1438-1740)
    • House of Lorraine (1745–1806)
  • House of Nassau (1292–1298)
  • House of Luxemburg (1308–1313, 1347–1400, and 1410–1437)
  • House of Wittelsbach (1314–1347, 1400–1410, and 1742–1745)
  • House of Hohenzollern (1871–1918)
  • Liutpolding Dynasty 889-947
  • Ottonian Dynasty 947-1017
  • House of Luxembourg 1017-1026, 1039–1047
  • Salian Dynasty 1026-1039, 1053–1061
  • House of Welf 1070-1138, 1156–1180
  • House of Babenberg 1138-1156
  • House of Wittelsbach 1180-1918
  • Liudolfing Dynasty 843-961
  • Billung Dynasty 961-1106
  • Supplinburger Dynasty 1106-1127
  • House of Welf 1127-1138, 1142–1180
  • Ascanian Dynasty 1138-1142, 1180–1422
  • Wettin Dynasty 1422-1918

Hungary

  • Árpád Dynasty (c.895-1301)
  • Samuel Aba of Hungary Aba - Árpád Dynasty (1038–1044)
  • Přemyslid Dynasty (1301–1305)
  • House of Wittelsbach (1305–1308)
  • Capetian Dynasty, House of Anjou (1308–1395)
  • House of Luxemburg (1387–1437)
  • Habsburg Dynasty (1437–1457, 1526-1918)
  • Jagiellonian Dynasty (1440–1526)
  • Zápolya Dynasty (1526–1571)
  • Habsburg Dynasty (1526-1918)

Monaco

  • House of Grimaldi which is actually Italian in origin.

Montenegro

  • Vojislavljević Dynasty (c. 7th century - 1186)
  • Nemanjić Dynasty (1186–1355)
  • Balšić Dynasty (1356–1435)
  • Crnojević Dynasty (1435–1516)
  • Petrović-Njegoš Dynasty (1696–1918)
  • Karađorđević Dynasty (1918–1941)

Iberia

  • Jiménez Dynasty (1035–1162)
  • House of Barcelona (1162–1410)
  • House of Trastámara (1412–1516)
  • House of Habsburg (1516–1700 and 1701–1707)
  • Peláyez Dynasty (718-739)
  • Pérez Dynasty (739-925)
  • House of Barcelona (878-1410)
  • House of Trastámara (1412–1516)
  • House of Habsburg (1516–1700 and 1701–1714)
  • House of Bourbon (1714–1716)
  • House of Lara (930-1032), counts
  • Jiménez Dynasty (1035–1126), kings
  • House of Burgundy (1126–1369)
  • House of Trastámara (1369–1516)
  • House of Habsburg (1516–1700)
  • Pérez Dynasty (910-1037)
  • Jiménez Dynasty (1037–1126)
  • House of Burgundy (1126–1369)
  • House of Trastámara (1369–1516)
  • House of Habsburg (1516–1700)
  • House of Íñiguez (824-905)
  • Jiménez Dynasty (905-1234)
  • House of Champagne (1234–1305)
  • House of Capet (1284–1349)
  • House of Évreux (1328–1441)
  • House of Trastámara (1425–1479)
  • House of Foix (1479–1516)
  • House of Albret (1483–1572)
  • House of Bourbon (1572–1620)
  • House of Vímara Peres (868-1071), counts
  • House of Burgundy or Afonsine Dynasty (1093–1383), counts until 1139, then kings
  • House of Aviz or Joannine Dynasty (1385–1580)
    • House of Aviz-Beja (1495–1580)
  • House of Habsburg or Philippine Dynasty (1580–1640)
  • House of Braganza or Brigantine Dynasty (1640–1910)
    • House of Braganza-Saxe-Coburg and Gotha (1853–1910)
  • House of Trastámara (1492–1516)
  • House of Habsburg (1516–1700)
  • House of Bourbon (1700–1714) (Disputed during the War of the Spanish Succession)
  • House of Bourbon (1714–1868, 1874–1931, and 1975 to the present)
  • House of Bonaparte (1808–1813)
  • House of Savoy (1871–1873)

Ireland

  • Fir Ol nEchmacht
  • Dal Fiachrach Suighe
  • The Connachta
  • Uí Fiachrach
  • Uí Néill
  • Eóganachta
  • Uí Dúnlainge
  • Uí Cheinnselaig
  • Dál Riata
  • Dál nAraidi
  • Dál Fiatach
  • Clann Cholmáin
  • Síl nÁedo Sláine
  • Cenél nEógain
  • Cenél Conaill
  • Uí Briúin Bréifne
  • Dál gCais
  • MacDermot
  • Ó Neill
  • O'Donnell (O Domhnaill)
  • O Connor Sligo
  • O'Conor Don
  • O'Brien

Italy

  • House of Savoy (1861–1946)

Netherlands

  • House of Orange (1772- to the present)

Norway

  • Fairhair Dynasty (890-1319)
  • House of Lade
  • House of Schleswig-Holstein-Sonderburg-Glücksburg (1905 to the present)

Poland

  • Piast Dynasty (9th century-1296 and 1306–1370)
  • Přemyslid Dynasty (1291–1306)
  • Capetian Dynasty, House of Anjou (1370–1399)
  • Jagiellonian Dynasty (1386–1572 and 1575–1586)
  • Valois Dynasty (1573–1574)
  • House of Báthory (1576–1586)
  • House of Vasa (1587–1668)
  • House of Wiśniowiecki (1669–1673)
  • House of Sobieski (1674–1696)
  • Wettin Dynasty (1697–1706, 1709–1733 and 1736–1764)
  • House of Leszczyński (1704–1709 and 1733–1736)
  • House of Poniatowski (1764–1795)

Roman Empire

  • Julio-Claudian Dynasty (27 BC-AD 68)
  • Flavian Dynasty (69-96)
  • Nervan-Antonian Dynasty (96-192)
  • Severan Dynasty (193-235)
  • Constantinian dynasty (303-363)
  • Valentinian Dynasty (364-457)
    • House of Theodosius from 379

Romania

  • House of Hohenzollern-Sigmaringen (1866–1947)

Russia

  • House of Rurikovich (862-1598, 1606–1610)
  • House of Romanov (1613–1762)
  • House of Holstein-Gottorp-Romanov, called Romanov (1762–1917)

Serbia

  • House of Vlastimirović (610-960)
  • House of Vojislavljević (1034–1186)
  • House of Nemanjić (1166–1371)
  • House of Lazarević (1371–1427)
  • House of Branković (1427–1502)
  • House of Karađorđević (1811–1813, 1842–1858 and 1903–1941)
  • House of Obrenović (1815–1842 and 1858–1903)

Sweden

  • House of Uppsala (970-1060)
  • House of Stenkil (1060–1130)
  • House of Sverker (1130–1222), interspersed with House of Eric
  • House of Eric (1156–1250), interspersed with House of Sverker
  • House of Bjälbo or Folkung Dynasty (1248–1387)
  • House of Vasa (1521–1654)
  • House of Wittelsbach or House of Palatinate–Zweibrücken-Kleeburg (1654–1720)
  • House of Hesse (1720–1751)
  • House of Holstein-Gottorp (1751–1818)
  • House of Bernadotte (1818 to the present)

Two Sicilies

  • House of Hauteville (1071–1198), counts until 1130
  • House of Hohenstaufen (1194–1266)
  • House of Capet, House of Anjou (1266–1282)
  • House of Barcelona (1282–1410)
  • House of Trastámara (1412–1516)
  • House of Habsburg (1516–1700 and 1720–1735)
  • House of Bourbon (1700–1713)
  • House of Savoy (1713–1720)
  • House of Bourbon (1735–1861)
  • (As a region of the Kingdom of Italy.) House of Savoy (1861–1946)

British Isles (under English rule)

  • House of Wessex (802-1016 and 1042–1066)
  • House of Denmark (1013–1014 and 1016–1042)
  • Norman Dynasty (1066–1154)
  • Plantagenet Dynasty (1154-1485)
    • House of Anjou (1154–1399)
    • House of Lancaster (1399–1461 and 1470–1471) (Throne merged with Irish)
    • House of York (1461–1470 and 1471–1485)
  • House of Tudor (1485–1603)
  • House of Stuart (1603–1714) (Throne merged with Scotland)
  • Crowley
  • Burke
  • Clanricarde
  • Plantagenet Dynasty (1154-1485)
    • House of Anjou (1154–1399)
    • House of Lancaster (1399–1461 and 1470–1471) (Throne merged with English)
  • House of Alpin (843-1034)
  • House of Dunkeld (1034–1040, 1058–1286)
  • House of Moray (1040–1058)
  • House of Baliol (1292–1296) (see Belgium, Flanders)
  • Plantagenet Dynasty
  • House of Bruce (1306–1371)
  • House of Stewart (1371-1707) (Throne Merged with English)

The crown of the Kingdom of England and Ireland merged with that of the Kingdom of Scotland to form a personal union between England-Ireland and Scotland (the former a personal union itself)

  • House of Stuart (1603–1707)
  • House of Stuart (1707–1801)
  • House of Hanover (1714–1801)
  • House of Hanover (1801–1901)
  • House of Saxe-Coburg-Gotha (1901–1910)
  • House of Windsor (1921–1949)
  • House of Windsor (1949–वर्तमान)

उत्तरी अमेरिका

हैती

  • Dessalines Dynasty (1804–1806)
  • Christophe Dynasty (1811–1820)
  • Soulouque Dynasty (1849–1859)

मैक्सिको

  • House of Iturbide (1822–1823)
  • House of Habsburg (1864–1867)

ओसीनिया

हवाई

  • Kingdom of Hawaii (1795–1810)
    • Kamehameha Dynasty (c.1795-1872)
    • Kalākaua Dynasty (c.1874-1893)
    • Kawananakoa Dynasty (c.1868-?)
    • Kalokuokamaile Dynasty (c.1860-?)

न्यू जीलैण्ड माओरी (New Zealand Māori)

  • Te Wherowhero Dynasty (1856 to the present)

ताहिती (Tahiti)

  • Pōmare Dynasty (1788–1880)

टोंगा (Tonga)

  • Tu'i Tonga Dynasty (c. 900-1865)
  • Tupou Dynasty (1875 to the present)

दक्षिण अमेरिका

Kingdom of Araucania and Patagonia

  • Tounes dynasty (1860–1862)

ब्राजील

  • House of Braganza (1822–1889)

Inca Empire

  • Hurin dynasty (1197 - c.1350)
  • Haran dynasty (c.1350 - 1572)

गणराज्यों के राजनैतिक परिवार

Though in elected governments rule does not pass automatically by inheritance, political power often accrues to generations of related individuals even in Republics. Eminence, Influence, familiarity, tradition, genetics, and even nepotism may contribute to this phenomenon.

Family dictatorships are a slightly different concept, where political power passes within a family due to the overwhelming authority of the leader, rather than informal power accrued to the family.

कुछ राजनीतिक वंश:

  • The Beazley and Crean families (Australian Labor Party)
  • Ziaur Rahman's and Sheikh Mujibur Rahman's families (Bangladesh)
  • Aung San Suu Kyi's family (Burma)
  • The Nehru-Gandhi family (India)
  • The Soekarnos (Indonesia)
  • The Kims (North Korea)
  • The Bhutto family (Pakistan)
  • The Zia family (Pakistan)
  • The Macapagal Family (Philippines)
  • The Aquino Family(Philippines)
  • The Estrada Family (Philippines)
  • The Marcos Family (Philippines)
  • The Medici family (Republic of Florence)
  • Lee Kuan Yew's family (Singapore)
  • Solomon Bandaranaike's family (Sri Lanka)
  • The Assads (Syria)
  • The Churchills/Dukes of Marlborough (UK)
  • The (Earl) Russells (UK)
  • The Chamberlains (UK)
  • The Greys (UK)
  • The Pitts (UK)
  • The Adamses (United States)
  • The Kennedys (United States)
  • The Bushes (United States)
  • The Long family (United States)
  • The Roosevelts (United States)
  • The Tafts (United States)
  • The Cuomo family (United States)
  • The Udalls (United States)

इन्हें भी देखें

सन्दर्भ

  1. The Times Atlas of World History (third edition), ISBN, 0-7230-0304-1
  2. The State of Yue
उत्तराखण्ड का इतिहास

उत्तराखण्ड का इतिहास पौराणिक है। उत्तराखण्ड का शाब्दिक अर्थ उत्तरी भू भाग का रूपान्तर है। इस नाम का उल्लेख प्रारम्भिक हिन्दू ग्रन्थों में मिलता है, जहाँ पर केदारखण्ड (वर्तमान गढ़वाल) और मानसखण्ड (वर्तमान कुमांऊँ) के रूप में इसका उल्लेख है। उत्तराखण्ड प्राचीन पौराणिक शब्द भी है जो हिमालय के मध्य फैलाव के लिए प्रयुक्त किया जाता था। उत्तराखण्ड "देवभूमि" के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि यह समग्र क्षेत्र धर्ममय और दैवशक्तियों की क्रीड़ाभूमि तथा हिन्दू धर्म के उद्भव और महिमाओंं की सारगर्भित कुंजी व रहस्यमय है। पौरव, कुशान, गुप्त, कत्यूरी, रायक, पाल, चन्द, परमार व पयाल राजवंश और अंग्रेज़ों ने बारी-बारी से यहाँ शासन किया था।

कत्यूरी राजवंश

कत्यूरी राजवंश भारत के उत्तराखण्ड राज्य का एक मध्ययुगीन राजवंश था। इस राजवंश के बारे में में माना जाता है कि वे अयोध्या के शालिवाहन शासक के वंशज हैं और इसलिए वे सूर्यवंशी हैं। किन्तु, बहुत से इतिहासकार उन्हें कुनिन्दा शासकों से जोड़ते हैं तथा कुछ इतिहासकार उन्हें खस मूल से भी जोड़ते है, जिनका कुमाऊँ क्षेत्र पर ६ठीं से ११वीं सदी तक शासन था। कत्यूरी राजाओं ने 'गिरीराज चक्रचूड़ामणि' की उपाधि धारण की थी। उनकी पहली राजधानी जोशीमठ में थी, जो जल्द ही कार्तिकेयपुर में स्थानान्तरित कर दी गई थी।

कत्यूरी राजा भी शक वंशावली के माने जाते हैं, जैसे राजा शालिवाहन, को भी शक वंश से माना जाता है। किन्तु, बद्री दत्त पाण्डेय जैसे इतिहासकारों का मानना है कि कत्यूरी, अयोध्या से आए थे।

उन्होंने अपने राज्य को 'कूर्मांचल' कहा, अर्थात 'कूर्म की भूमि'। कूर्म भगवान विष्णु का दूसरा अवतार था, जिससे इस स्थान को इसका वर्तमान नाम, कुमाऊँ मिला। कत्युरी राजा का कुलदेवता स्वामी कार्तिकेय (मोहन्याल) नेपाल के बोगटान राज्य मे विराजमान है।

कुरु

कुरु (संस्कृत: कुरु) उत्तरी लौह युग के भारत में एक वैदिक इंडो-आर्यन आदिवासी संघ का नाम था, जिसमें दिल्ली, हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश के पश्चिमी भाग (दोआब का क्षेत्र, प्रयाग तक) शामिल थे। ), जो मध्य वैदिक काल [1] [२] (सी। १२००-सी ९ ०० ईसा पूर्व) में दिखाई दिया और भारतीय उपमहाद्वीप में पहले दर्ज राज्य-स्तरीय समाज में विकसित हुआ। [३] [नोट १] [४]

कुरु साम्राज्य ने निर्णायक रूप से प्रारंभिक वैदिक काल की वैदिक विरासत को बदल दिया, वैदिक भजनों को संग्रह में व्यवस्थित किया, और नए अनुष्ठानों को विकसित किया जिन्होंने भारतीय सभ्यता में श्रुत संस्कार के रूप में अपना स्थान प्राप्त किया, [3] ने तथाकथित "शास्त्रीय संश्लेषण" में योगदान दिया "[4] या" हिंदू संश्लेषण "। [५] यह परीक्षित और जनमेजय के शासनकाल के दौरान मध्य वैदिक काल का प्रमुख राजनीतिक और सांस्कृतिक केंद्र बन गया, [3] लेकिन बाद के वैदिक काल (सी। 900 - सी। 500 बीसीई) के दौरान इसका महत्व कम हो गया और यह "कुछ" हो गया। 5 वीं शताब्दी ईसा पूर्व में महाजनपद काल से एक बैकवाटर "[4]। हालांकि, कौरवों के बारे में परंपराएं और किंवदंतियां वैदिक काल के बाद में जारी रहीं, जो महाभारत महाकाव्य के लिए आधार प्रदान करती हैं। [३]

इतिहास -

कुरु साम्राज्य को समझने के लिए मुख्य समकालीन स्रोत प्राचीन धार्मिक ग्रंथ हैं, जिसमें इस अवधि के दौरान जीवन का विवरण और ऐतिहासिक व्यक्तियों और घटनाओं के बारे में उल्लेख है। [३] कुरु साम्राज्य की समय-सीमा और भौगोलिक सीमा (वैदिक साहित्य के दार्शनिक अध्ययन द्वारा निर्धारित) पुरातात्विक चित्रित ग्रे वेयर संस्कृति के साथ इसके पत्राचार का सुझाव देती है। [४]

ऋग्वेद के समय के बाद वैदिक साहित्य में कौरवों का प्रमुख स्थान है। यहाँ के कुरु गंगा-यमुना दोआब और आधुनिक हरियाणा पर शासन करते हुए प्रारंभिक भारत-आर्यों की एक शाखा के रूप में दिखाई देते हैं। बाद के वैदिक काल में ध्यान पंजाब से हटकर हरियाणा और दोआब में, और इस तरह कुरु वंश में गया। [६]

यह प्रवृत्ति हरियाणा और दोआब क्षेत्र में पेंटेड ग्रे वेयर (PGW) बस्तियों की बढ़ती संख्या और आकार से मेल खाती है। कुरुक्षेत्र जिले के पुरातात्विक सर्वेक्षणों में 1000 से 600 ईसा पूर्व की अवधि के लिए तीन-स्तरीय पदानुक्रम एक अधिक जटिल (यद्यपि अभी तक पूरी तरह से शहरीकृत नहीं है) का पता चला है, एक जटिल प्रमुखता का सुझाव देते हुए या प्रारंभिक अवस्था में, दो-स्तरीय निपटान के विपरीत है। पैटर्न (कुछ "मामूली केंद्रीय स्थानों के साथ", सरल प्रमुखों के अस्तित्व का सुझाव देते हुए) गंगा घाटी के बाकी हिस्सों में। यद्यपि अधिकांश पीजीडब्ल्यू साइटें छोटे खेती वाले गांव थे, कई पीजीडब्ल्यू साइट अपेक्षाकृत बड़ी बस्तियों के रूप में उभरीं जिन्हें शहरों के रूप में जाना जा सकता है; इनमें से सबसे बड़े किले को ढलान या खंदक और लकड़ी के पाले से ढकी हुई धरती से बनाया गया था, जो कि 600 ईसा पूर्व के बाद बड़े शहरों में उभरे विस्तृत किलेबंदी की तुलना में छोटा और सरल था। [8]

दस राजाओं के युद्ध के बाद, भरत और पुरु जनजातियों के बीच गठबंधन और विलय के परिणामस्वरूप मध्य वैदिक काल में कुरु जनजाति का गठन किया गया था। [३] [९] कुरुक्षेत्र क्षेत्र में अपनी सत्ता के केंद्र के साथ, कौरवों ने वैदिक काल का पहला राजनीतिक केंद्र बनाया, और लगभग 1200 से 800 ईसा पूर्व तक प्रमुख थे। पहली कुरु की राजधानी हरियाणा में थी, [3] जिसकी पहचान हरियाणा में आधुनिक असंध से हुई थी। [१०] [१०] बाद में साहित्य इंद्रप्रस्थ (आधुनिक दिल्ली) और हस्तिनापुर को मुख्य कुरु शहरों के रूप में संदर्भित करता है। [३]

अथर्ववेद (XX.127) परीक्षित, "कौरवों के राजा" की प्रशंसा करता है, जो एक संपन्न, समृद्ध क्षेत्र के महान शासक के रूप में है। अन्य दिवंगत वैदिक ग्रंथों, जैसे कि शतपथ ब्राह्मण, परीक्षित के पुत्र जनमेजय को एक महान विजेता के रूप में स्मरण करते हैं जिन्होंने अश्वमेध (अश्व-यज्ञ) किया था। [१२] इन दो कुरु राजाओं ने कुरु राज्य के एकीकरण और श्रुत अनुष्ठानों के विकास में एक निर्णायक भूमिका निभाई और वे बाद की किंवदंतियों और परंपराओं (जैसे, महाभारत में) में महत्वपूर्ण व्यक्ति के रूप में दिखाई देते हैं। [३]

गैर-वैदिक सलवा (या सालवी) जनजाति द्वारा पराजित होने के बाद कौरवों में गिरावट आई और वैदिक संस्कृति का केंद्र उत्तर प्रदेश में पंचाल क्षेत्र में बदल गया, (जिसका राजा केयिन दल्लभ्य स्वर्गीय कुरु राजा का भतीजा था)। [3] वैदिक संस्कृत साहित्य के बाद, कौरवों की राजधानी को बाद में कौशाम्बी में स्थानांतरित कर दिया गया था, हस्तिनापुर में बाढ़ [1] के साथ-साथ स्वयं कुरु परिवार में उथल-पुथल के कारण नष्ट हो जाने के बाद [13] [१४]। ] [नोट 2] पश्चात वैदिक काल (6 वीं शताब्दी ईसा पूर्व तक) में, कुरु और वत्स जनपदों में कुरु वंश विकसित हुआ, जो क्रमशः ऊपरी दोआब / दिल्ली / हरियाणा और निचले दोआब पर शासन करते थे। कुरु वंश की वत्स शाखा आगे कौशाम्बी और मथुरा में शाखाओं में विभाजित हो गई। [१६]

कुल (जीवविज्ञान)

कुल (अंग्रेज़ी: family, फ़ैमिली; लातिनी: familia, फ़ामिलिया) जीववैज्ञानिक वर्गीकरण में प्राणियों के वर्गीकरण की एक श्रेणी होती है। एक कुल में एक-दुसरे से समानताएँ रखने वाले कई सारे जीवों के वंश आते हैं। ध्यान दें कि हर प्राणी वंश में बहुत-सी भिन्न प्राणियों की जातियाँ सम्मिलित होती हैं।

कुश

लव कुश भगवान राम कथा सीता के पुत्र थे I जिनका जन्म महर्षि वाल्मीकि के आश्रम में हुआ था I

लव व कुश ने राम के अश्वमेघ घोड़े को पकड़ कर राम को युद्ध के लिये चुनौती दे डाली थी।अयोध्या के सभी वीरों को छोटे से बालक ने हराकर यह सिद्ध कर दिया था; शक्ति का गुरूर खतरनाक होता है।लव के भाई होने के कारण कुश ने अपनी माँ सीता को न्याय दिलाने के लिये अयोध्या राजा सह पिता से भरी सभा में संवाद किया और माँ सीता को पवित्र और सत्य सावित किया। माँ सीता ने अपने राज्य को कुश के हाथ में सौंप दिया और खुद धरती माँ के गर्भ में चली गयी। तभी से कुश को स्त्री

कुषाण राजवंश

कुषाण प्राचीन भारत के राजवंशों में से एक था। कुछ इतिहासकार इस वंश को चीन से आए युएझ़ी लोगों के मूल का मानते हैं। युरोपियन इतिहासकारों नें युएझी/यूची कबीले को प्राचीन आर्य से जुड़ा बताया है!

सर्वाधिक प्रमाणिकता के आधार पर कुषाण वन्श को चीन से आया हुआ माना गया है। लगभग दूसरी शताब्दी ईपू के मध्य में सीमांत चीन में युएझ़ी नामक कबीलों की एक जाति हुआ करती थी जो कि खानाबदोशों की तरह जीवन व्यतीत किया करती थी। इसका सामना ह्युगनु कबीलों से हुआ जिसने इन्हें इनके क्षेत्र से खदेड़ दिया। ह्युगनु के राजा ने ह्यूची के राजा की हत्या कर दी। ह्यूची राजा की रानी के नेतृत्व में ह्यूची वहां से ये पश्चिम दिशा में नयी जगह की तलाश में चले। रास्ते में ईली नदी के तट पर इनका सामना व्ह्सुन नामक कबीलों से हुआ। व्ह्सुन इनके भारी संख्या के सामने टिक न सके और परास्त हुए। ह्यूची ने उनके उपर अपना अधिकार कर लिया। यहां से ह्यूची दो भागों में बंट गये, ह्यूची का जो भाग यहां रुक गया वो लघु ह्यूची कहलाया और जो भाग यहां से और पश्चिम दिशा में बढा वो महान ह्यूची कहलाया। महान ह्यूची का सामना शकों से भी हुआ। शकों को इन्होंने परास्त कर दिया और वे नये निवासों की तलाश में उत्तर के दर्रों से भारत आ गये। ह्यूची पश्चिम दिशा में चलते हुए अकसास नदी की घाटी में पहुँचे और वहां के शान्तिप्रिय निवासिओं पर अपना अधिकार कर लिया। सम्भवतः इनका अधिकार बैक्ट्रिया पर भी रहा होगा। इस क्ष्रेत्र में वे लगभग १० वर्ष ईपू तक शान्ति से रहे।

चीनी लेखक फान-ये ने लिखा है कि यहां पर महान ह्यूची ५ हिस्सों में विभक्त हो गये - स्यूमी, कुई-शुआंग, सुआग्म, ,। बाद में कुई-शुआंग ने क्यु-तिसी-क्यो के नेतृत्व में अन्य चार भागों पर विजय पा लिया और क्यु-तिसी-क्यो को राजा बना दिया गया। क्यु-तिसी-क्यो ने करीब ८० साल तक शासन किया। उसके बाद उसके पुत्र येन-काओ-ट्चेन ने शासन सम्भाला। उसने भारतीय प्रान्त तक्षशिला पर विजय प्राप्त किया। चीनी साहित्य में ऐसा विवरण मिलता है कि, येन-काओ-ट्चेन ने ह्येन-चाओ (चीनी भाषा में जिसका अभिप्राय है - बड़ी नदी के किनारे का प्रदेश जो सम्भवतः तक्षशिला ही रहा होगा)। यहां से कुई-शुआंग की क्षमता बहुत बढ़ गयी और कालान्तर में उन्हें कुषाण कहा गया।

गाहड़वाल वंश

गाहड़वाल राजवंश भारतीय उपमहाद्वीप की एक शक्ति थी, जिसने ११वीं और १२वीं शताब्दी के दौरान उत्तर प्रदेश और बिहार के वर्तमान भारतीय राज्यों के कुछ हिस्सों पर शासन किया था। उनकी राजधानी वाराणसी में स्थित थी, और एक संक्षिप्त अवधि के लिए उन्होंने कान्यकुब्ज (आधुनिक कन्नौज) पर भी शासन किया। गहड़वाल शासकों को 'काशी नरेश' के रूप में भी जाना जाता था, क्योंकि बनारस इनके राज्य की पूर्वी सीमा के निकट था।

इस राजवंश के पहले सम्राट, चंद्रदेव ने कलचुरी के पतन के बाद १०९० ई में एक संप्रभु राज्य की स्थापना की। चंद्रदेव ने प्रतिहार शासक को हराकर कन्नौज पर अपना आधिपत्य स्थापित किया और 1100 तक शासन किया। चन्द्रदेव ने महाराजाधिराज की उपाधि भी धारण की।

चन्द्रदेव का उत्तराधिकारी मदनचन्द्र या मदनपाल था। मदनचंद्र का उत्तराधिकारी गोविन्दचन्द्र (1114 से 1154) एक महत्वकांशी शासक था। उसने पालों से मगध को जीता तथा मालवा पर अधिकार किया। उसने इस वंश का यश चरमोत्कर्ष तक पहुँचाया।

गोविन्द चंद्र के पुत्र विजयचन्द्र (1156 से 1170 ईस्वी) ने गहड़वाल साम्राज्य को सुरक्षित बनाया। जयचन्द (1170 से 1193) इस वंश का अंतिम शक्तिशाली शासक था। दिल्ली पर आधिपत्य के लिए चौहान और गाहड़वालों की शत्रुता चल रही थी, जिस पर अंततः चौहानों का कब्जा हो गया।

जिन शासकों ने शासन किया उनके नाम इस प्रकार है:-

गोविन्द चन्द्र (1114 से 1154 ई.),

विजय चन्द्र (1155 से 1170 ई.),

जयचन्द्र (1170 से 1193 ई.)।दिल्ली विजय के बाद कुतुबुद्दीन ऐबक तथा मोहम्मद गोरी ने जयचंद पर आक्रमण किया ११९३ ईस्वी में चन्दावर के युद्ध में जयचन्द पराजित हो गया और उसे मार डाला गया। जयचन्द ने देवगिरि के यादव, गुजरात के सोलंकी और तुर्की को कई बार हराया। अपनी विजय के उपलक्ष्य में उसने राजसूय यज्ञ किया। उसके राजकवि तथा संस्कृत के प्रख्यात कवि श्रीहर्ष ने इसके शासनकाल में नैषधीयचरित एवं खंडनखाद्य की रचना की। उसका पुत्र हरीश खोये हुए क्षेत्र को फिर से मुक्त कराने में असफल रहा। इल्तुतमिश ने यहां स्थाई रूप से १२२५ ईस्वी में सत्ता स्थापित कर ली।

गुप्त राजवंश

गुप्त राजवंश या गुप्त वंश प्राचीन भारत के प्रमुख राजवंशों में से एक था।

मौर्य वंश के पतन के बाद दीर्घकाल में हर्ष तक भारत में राजनीतिक एकता स्थापित नहीं रही। कुषाण एवं सातवाहनों ने राजनीतिक एकता लाने का प्रयास किया। मौर्योत्तर काल के उपरान्त तीसरी शताब्दी ईस्वी में तीन राजवंशो का उदय हुआ जिसमें मध्य भारत में नाग शक्‍ति, दक्षिण में बाकाटक तथा पूर्वी में गुप्त वंश प्रमुख हैं। मौर्य वंश के पतन के पश्चात नष्ट हुई राजनीतिक एकता को पुनः स्थापित करने का श्रेय गुप्त वंश को है।

गुप्त साम्राज्य की नींव तीसरी शताब्दी के चौथे दशक में तथा उत्थान चौथी शताब्दी की शुरुआत में हुआ। गुप्त वंश का प्रारम्भिक राज्य आधुनिक उत्तर प्रदेश और बिहार में था।

दिल्ली का इतिहास

दिल्ली को भारतीय महाकाव्य महाभारत में प्राचीन इन्द्रप्रस्थ, की राजधानी के रूप में जाना जाता है। उन्नीसवीं शताब्दी के आरंभ तक दिल्ली में इंद्रप्रस्थ नामक गाँव हुआ करता था।

अभी भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण की देखरेख में कराये गये खुदाई में जो भित्तिचित्र मिले हैं उनसे इसकी आयु ईसा से एक हजार वर्ष पूर्व का लगाया जा रहा है, जिसे महाभारत के समय से जोड़ा जाता है, लेकिन उस समय के जनसंख्या के कोई प्रमाण अभी नहीं मिले हैं। कुछ इतिहासकार इन्द्रप्रस्थ को पुराने दुर्ग के आस-पास मानते हैं।

पुरातात्विक रूप से जो पहले प्रमाण मिलते हैं उन्हें मौर्य-काल (ईसा पूर्व 300) से जोड़ा जाता है। तब से निरन्तर यहाँ जनसंख्या के होने के प्रमाण उपलब्ध हैं। 1966 में praptअशोक का एक शिलालेख(273 - 300 ई पू) दिल्ली में श्रीनिवासपुरी में पाया गया। यह शिलालेख जो प्रसिद्ध लौह-स्तम्भ के रूप में जाना जाता है अब क़ुतुब-मीनार में देखा जा सकता है। इस स्तंभ को अनुमानत: गुप्तकाल (सन ४००-६००) में बनाया गया था और बाद में दसवीं सदी में दिल्ली लाया गया।लौह स्तम्भ यद्यपि मूलतः कुतुब परिसर का नहीं है, ऐसा प्रतीत होता है कि यह किसी अन्य स्थान से यहां लाया गया था, संभवतः तोमर राजा, अनंगपाल द्वितीय (1051-1081) इसे मध्य भारत के उदयगिरि नामक स्थान से लाए थे। इतिहास कहता है कि 10वीं-11वीं शताब्दी के बीच लोह स्तंभ को दिल्ली में स्थापित किया गया था और उस समय दिल्ली में तोमर राजा अनंगपाल द्वितीय (1051-1081) था। वही लोह स्तंभ को दिल्ली में लाया था जिसका उल्लेख पृथ्वीराज रासो में भी किया है। जबकि फिरोजशाह तुगलक 13 शताब्दी मे दिल्ली का राजा था वो केसे 10 शताब्दी मे इसे ला सकता है।

चंदरबरदाई की रचना पृथवीराज रासो में तोमर वंश राजा अनंगपाल को दिल्ली का संस्थापक बताया गया है। ऐसा माना जाता है कि उसने ही 'लाल-कोट' का निर्माण करवाया था और लौह-स्तंभ दिल्ली लाया था। दिल्ली में तोमर वंश का शासनकाल 900-1200 इसवी तक माना जाता है। 'दिल्ली' या 'दिल्लिका' शब्द का प्रयोग सर्वप्रथम उदयपुर में प्राप्त शिलालेखों पर पाया गया, जिसका समय 1170 ईसवी निर्धारित किया गया। शायद 1316 ईसवी तक यह हरियाणा की राजधानी बन चुकी थी। 1206 इसवी के बाद दिल्ली सल्तनत की राजधानी बनी जिसमें खिलज़ी वंश, तुग़लक़ वंश, सैयद वंश और लोधी वंश समते कुछ अन्य वंशों ने शासन किया।

दिल्ली सल्तनत

दिल्ली सल्तनत का उदय कब हुआ ये तो सही प्रकार से ज्ञात नहीं है क्यूंकि मुस्लिम और अंग्रेज इतिहासकारों ने दिल्ली का इतिहास अपने हिसाब से लिखा है| विदेशी इतिहासकारों के मत से 1206 से 1526 तक भारत पर शासन करने वाले पाँच वंश के सुल्तानों के शासनकाल को दिल्ली सल्तनत (उर्दू: دلی سلطنت‎) या सल्तनत-ए-हिन्द/सल्तनत-ए-दिल्ली कहा जाता है। ये पाँच वंश ये थे- गुलाम वंश (1206 - 1290), ख़िलजी वंश (1290- 1320), तुग़लक़ वंश (1320 - 1414), सैयद वंश (1414 - 1451), तथा लो दी वंश (1451 - 1526)। इनमें से चार वंश मूलतः तुर्क थे जबकि अंतिम वंश अफगान था। अब यहाँ ये गौर करने वाली बात है की गुलाम वंश जो की मुहम्मद गौरी के गुलाम का वंश था उन्हें ये दिल्ली का नाम कहाँ से ज्ञात हुआ | और भी ज्यादा हैरानी की बात है की सम्राट पृथ्वीराज चौहान जिन्हें दिल्ली का आखरी हिन्दू सम्राट कहा जाता है वो दिल्ली की ही तख़्त पर थे और उन्हें ये सिंहासन अपने नाना अनंगपाल तोमर से प्राप्त हुआ था जो की तोमर राजपूत वंशीय थे अर्थात पृथ्वीराज चौहान से पहले भी दिल्ली साम्राज्य व्याप्त था | तो ये बात तो कतई मानी नहीं जा सकती की दिल्ली की सभ्यता का आरम्भ विदेशी मुस्लिम आक्रमणकारियों द्वारा किया गया |

मोहम्मद ग़ौरी का गुलाम कुतुब-उद-दीन ऐबक, गुलाम वंश का पहला सुल्तान था। ऐबक का साम्राज्य पूरे उत्तर भारत तक फैला था। इसके बाद ख़िलजी वंश ने मध्य भारत पर कब्ज़ा किया परन्तु भारतीय उपमहाद्वीप को संगठित करने में असफल रहा।इस सल्तनत ने न केवल बहुत से दक्षिण एशिया के मंदिरों का विनाश किया साथ ही अपवित्र भी किया, पर इसने भारतीय-इस्लामिक वास्तुकला के उदय में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। दिल्ली सल्तनत मुस्लिम इतिहास के कुछ कालखंडों में है जहां किसी महिला ने सत्ता संभाली।1526 में मुगल सल्तनत द्वारा इस इस साम्राज्य का अंत हुआ।

नंद वंश

नंदवंश प्राचीन भारत का एक राजवंश था।पुराणों में इसे महापद्मनंद कहा गया है ।

उसे महापद्म एकारात पूराण मे काहागया है, सर्व क्षत्रान्तक आदि उपाधियों से विभूषित किया गया है । जिसने पाँचवीं-चौथी शताब्दी ईसा पूर्व उत्तरी भारत के विशाल भाग पर शासन किया।

नंदवंश की स्थापना महापद्मनंद ने की थी। भारतीय इतिहास में पहली बार एक ऐसे साम्राज्य की स्थापना हुई जो कुलीन नहीं था तथा जिसकी सीमाएं गंगा के मैदानों को लांघ गई। यह साम्राज्य वस्तुतः स्वतंत्र राज्यों या सामंतों का शिथिल संघ ना होकर बल्कि किसी शक्तिशाली राजा बल के सम्मुख नतमस्तक होते थे। ये एक एक-रात की छत्रछाया में एक अखंड राजतंत्र था, जिसके पास अपार सैन्यबल, धनबल और जनबल था। चक्रवर्ती सम्राट महापद्मनंद ने निकटवर्ती सभी राजवंशो को जीतकर एक विशाल साम्राज्य की स्थापना की एवं केंद्रीय शासन की व्यवस्था लागू की। इसीलिए सम्राट महापदम नंद को "केंद्रीय शासन पद्धति का जनक" कहा जाता है। महापद्म नन्द के प्रमुख राज्य उत्तराधिकारी हुए हैं- उग्रसेन, पंडूक, पाण्डुगति, भूतपाल, राष्ट्रपाल, योविषाणक, दशसिद्धक, कैवर्त, धनानन्द , चंद्र नंद ( चंद्रगुप्त मौर्य ) । इसके शासन काल में भारत पर आक्रमण सिकन्दर द्वारा किया गया । सिकन्दर के भारत से जाने के बाद मगध साम्राज्य में अशान्ति और अव्यवस्था फैली । धनानन्द एक लालची और धन संग्रही शासक था, जिसे असीम शक्तिल और सम्पत्ति के बावजूद वह जनता के विश्वाास को नहीं जीत सका । उसने एक महान विद्वान ब्राह्मण चाणक्य को अपमानित किया था ।

चाणक्य ने अपनी कूटनीति से धनानन्द को पराजित कर चन्द्रगुप्त मौर्य को मगध का शासक बनाया । यह स्मरण योग्य बात है कि नंदवंश के राजा अपने उत्तराधिकारियों और भावी पीढ़ियों को दान में क्या दे गए? स्मिथ के शब्दों में कहें तो "उन्होंने 66 परस्पर विरोधी राज्यों को इस बात के लिए विवश किया कि वह आपसी उखाड़-पछाड़ न करें और स्वयं को किसी उच्चतर नियामक सत्ता के हाथों सौंप दे।"

नन्द वंश के समय मगध राजनैतिक दृष्टि से अत्यन्त समृद्धशाली साम्राज्य बन गया।व्याकरण के आचार्य पाणिनी महापद्मनन्द के मित्र थे।वर्ष, उपवर्ष, वर, रुचि, कात्यायन जैसे विद्वान नन्द शासन में हुए।शाकटाय तथा स्थूल भद्र धनानन्द के जैन मतावलम्बी अमात्य थे।

बिहार का प्राचीन इतिहास

प्राचीन बिहार के ऐतिहासिक स्रोतों से प्राप्त महत्वपूर्ण तथ्यों से स्पष्ट होता है कि यह राज्य पवित्र गंगा घाटी में स्थित भारत का उत्तरोत्तर क्षेत्र था जिसका प्राचीन इतिहास अत्यन्त गौरवमयी और वैभवशाली था। यहाँ ज्ञान, धर्म, अध्यात्म व सभ्यता-संस्कृति की ऐसी किरण प्रस्फुटित हुई जिससे न केवल भारत बल्कि समस्त संसार आलोकित हुआ।

काल खण्ड के अनुसार बिहार के इतिहास को दो भागों में बाँटा जा सकता है-

(।) पूर्व ऐतिहासिक काल, (॥) ऐतिहासिक काल।

बिहार का मध्यकालीन इतिहास

बिहार का मध्यकालीन इतिहास का प्रारम्भ उत्तर-पश्‍चिम सीमा पर तुर्कों के आक्रमण से होता है। मध्यकालीन काल में भारत में किसी की भी मजबूत केन्द्रीय सत्ता नहीं थी। पूरे देश में सामन्तवादी व्यवस्था चल रही थी। सभी शासक छोटे-छोटे क्षेत्रीय शासन में विभक्‍त थे।

मध्यकालीन बिहार की इतिहास की जानकारी के स्त्रोतों में अभिलेख, नुहानी राज्य के स्त्रोत, विभिन्न राजाओं एवं जमींदारों के राजनीतिक जीवन एवं अन्य सत्ताओं से उनके संघर्ष, दस्तावेज, मिथिला क्षेत्र में लिखे गये ग्रन्थ, यूरोपीय यात्रियों द्वारा दिये गये विवरण इत्यादि महत्वपूर्ण हैं।

बिहार का मध्यकालीन युग १२वीं शताब्दी से प्रारम्भ माना जा सकता है।विद्यापति का रचित ग्रन्थ कीर्तिलता के अनुसार कर्नाट वंशीय शासक हरिसिंह के पश्‍चात मिथिला में राजनीतिक अराजकता का माहौल था।मुस्लिम आक्रमण से पूर्व बिहार दो राजनीतिक क्षेत्रीय भाग में विभक्‍त था- दक्षिण बिहार का क्षेत्रीय भाग और उत्तर बिहार का क्षेत्रीय भाग।दक्षिण बिहार का क्षेत्रीय भाग-यह भाग दक्षिण बिहार का क्षेत्र था। जिसमें मगधराज्य मुख्य था।

उत्तर बिहार का क्षेत्रीय भाग-यह भाग उत्तर बिहार का था जो तिरहुत क्षेत्र में पड़ता था जिसमें मिथिला राज्य प्रमुख था।

Naya raj avn rajaon ka uday

Earthraj chauhan was delhi of king ,her time their past-moment and many typs kingdom,for example harsbardhan sultan muhammed as king & queen

दोनों क्षेत्रीय भाग में कोई मजबूत शासक नहीं था। और सभी क्षेत्रो में छोटे-छोटे राजा/सामन्त स्वतन्त्र सत्ता स्थापित कर चुके थे। पाल वंशीय शासन व्यवस्था भी धीरे-धीरे बिहार में कमजोर होती जा रही थी। वे बंगाल तक ही सीमित हो चुके थे।

मगध महाजनपद

मगध प्राचीन भारत के 16 महाजनपदों में से एक था। आधुनिक पटना तथा गया जिला इसमें शामिल थे। इसकी राजधानी गिरिव्रज (वर्तमान राजगीर) पाटलिपुुुत्र थी। भगवान बुद्ध के पूर्व बृहद्रथ तथा जरासंध यहाँ के प्रतिष्ठित राजा थे। अभी इस नाम से बिहार में एक प्रंमडल है - मगध प्रमंडल।

मगध का सर्वप्रथम उल्लेख अथर्व वेद में मिलता है। अभियान चिन्तामणि के अनुसार मगध को 'कीकट' कहा गया है।

मगध बुद्धकालीन समय में एक शक्‍तिशाली राजतन्त्रों में एक था। यह दक्षिणी बिहार में स्थित था जो कालान्तर में उत्तर भारत का सर्वाधिक शक्‍तिशाली महाजनपद बन गया। यह गौरवमयी इतिहास और राजनीतिक एवं धार्मिकता का विश्‍व केन्द्र बन गया।

मगध महाजनपद की सीमा उत्तर में गंगा से दक्षिण में विन्ध्य पर्वत तक, पूर्व में चम्पा से पश्‍चिम में सोन नदी तक विस्तृत थीं।

मगध की प्राचीन राजधानी राजगृह थी। यह पाँच पहाड़ियों से घिरा नगर था। कालान्तर में मगध की राजधानी पाटलिपुत्र में स्थापित हुई। मगध राज्य में तत्कालीन शक्‍तिशाली राज्य कौशल, वत्स व अवन्ति को अपने जनपद में मिला लिया। इस प्रकार मगध का विस्तार अखण्ड भारत के रूप में हो गया और प्राचीन मगध का इतिहास ही भारत का इतिहास बना।

महाजनपद

महाजनपद, प्राचीन भारत में राज्य या प्रशासनिक इकाईयों को कहते थे। उत्तर वैदिक काल में कुछ जनपदों का उल्लेख मिलता है। बौद्ध ग्रंथों में इनका कई बार उल्लेख हुआ है।

ईसापूर्व ६वीं-५वीं शताब्दी को प्रारम्भिक भारतीय इतिहास में एक प्रमुख मोड़ के रूप में माना जाता है जहाँ सिन्धु घाटी की सभ्यता के पतन के बाद भारत के पहले बड़े शहरों के उदय के साथ-साथ श्रमण आंदोलनों (बौद्ध धर्म और जैन धर्म सहित) का उदय हुआ।

मुग़ल साम्राज्य

इस अनुच्छेद को विकिपीडिया लेख Mughal Empire के इस संस्करण से अनूदित किया गया है।

मुग़ल साम्राज्य (फ़ारसी: مغل سلطنت ھند‎, मुग़ल सलतनत-ए-हिंद; तुर्की: बाबर इम्परातोरलुग़ु), एक इस्लामी तुर्की-मंगोल साम्राज्य था जो 1526 में शुरू हुआ, जिसने 17 वीं शताब्दी के आखिर में और 18 वीं शताब्दी की शुरुआत तक भारतीय उपमहाद्वीप में शासन किया और 19 वीं शताब्दी के मध्य में समाप्त हुआ।

मुग़ल सम्राट तुर्क-मंगोल पीढ़ी के तैमूरवंशी थे और इन्होंने अति परिष्कृत मिश्रित हिन्द-फारसी संस्कृति को विकसित किया। 1700 के आसपास, अपनी शक्ति की ऊँचाई पर, इसने भारतीय उपमहाद्वीप के अधिकांश भाग को नियंत्रित किया - इसका विस्तार पूर्व में वर्तमान बंगलादेश से पश्चिम में बलूचिस्तान तक और उत्तर में कश्मीर से दक्षिण में कावेरी घाटी तक था। उस समय 44 लाख किमी² (15 लाख मील²) के क्षेत्र पर फैले इस साम्राज्य की जनसंख्या का अनुमान 13 और 15 करोड़ के बीच लगाया गया था। 1725 के बाद इसकी शक्ति में तेज़ी से गिरावट आई। उत्तराधिकार के कलह, कृषि संकट की वजह से स्थानीय विद्रोह, धार्मिक असहिष्णुता का उत्कर्ष और ब्रिटिश उपनिवेशवाद से कमजोर हुए साम्राज्य का अंतिम सम्राट बहादुर ज़फ़र शाह था, जिसका शासन दिल्ली शहर तक सीमित रह गया था। अंग्रेजों ने उसे कैद में रखा और 1857 के भारतीय विद्रोह के बाद ब्रिटिश द्वारा म्यानमार निर्वासित कर दिया।

1556 में, जलालुद्दीन मोहम्मद अकबर, जो महान अकबर के नाम से प्रसिद्ध हुआ, के पदग्रहण के साथ इस साम्राज्य का उत्कृष्ट काल शुरू हुआ और सम्राट औरंगज़ेब के निधन के साथ समाप्त हुआ, हालाँकि यह साम्राज्य और 150 साल तक चला। इस समय के दौरान, विभिन्न क्षेत्रों को जोड़ने में एक उच्च केंद्रीकृत प्रशासन निर्मित किया गया था। मुग़लों के सभी महत्वपूर्ण स्मारक, उनके ज्यादातर दृश्य विरासत, इस अवधि के हैं।

मौर्य राजवंश

मौर्य राजवंश (३२२-१८५ ईसापूर्व) प्राचीन भारत का एक शक्तिशाली एवं महान क्षत्रिय राजवंश था।। मौर्य राजवंश ने १३७ वर्ष भारत में राज्य किया। इसकी स्थापना का श्रेय चन्द्रगुप्त मौर्य और उसके मन्त्री कौटिल्य को दिया जाता है,

यह साम्राज्य पूर्व में मगध राज्य में गंगा नदी के मैदानों (आज का बिहार एवं बंगाल) से शुरु हुआ। इसकी राजधानी पाटलिपुत्र (आज के पटना शहर के पास) थी। चन्द्रगुप्त मौर्य ने ३२२ ईसा पूर्व[कृपया उद्धरण जोड़ें] में इस साम्राज्य की स्थापना की और तेजी से पश्चिम की तरफ़ अपना साम्राज्य का विकास किया। उसने कई छोटे छोटे क्षेत्रीय राज्यों के आपसी मतभेदों का फायदा उठाया जो सिकन्दर के आक्रमण के बाद पैदा हो गये थे। ३१६ ईसा पूर्व तक मौर्य वंश ने पूरे उत्तरी पश्चिमी भारत पर अधिकार कर लिया था। चक्रवर्ती सम्राट अशोक के राज्य में मौर्य वंश का वृहद स्तर पर विस्तार हुआ। सम्राट अशोक के कारण ही मौर्य साम्राज्य सबसे महान एवं शक्तिशाली बनकर विश्वभर में प्रसिद्ध हुआ।

लोधी उद्यान, दिल्ली

लोधी उद्यान (पूर्व नाम:विलिंग्डन गार्डन, अन्य नाम: लोधी गार्डन) दिल्ली शहर के दक्षिणी मध्य इलाके में बना सुंदर उद्यान है। यह सफदरजंग के मकबरे से १ किलोमीटर पूर्व में लोधी मार्ग पर स्थित है। पहले ब्रिटिश काल में इस बाग का नाम लेडी विलिंगटन पार्क था। यहां के उद्यान के बीच-बीच में लोधी वंश के मकबरे हैं तथा उद्यान में फव्वारे, तालाब, फूल और जॉगिंग ट्रैक भी बने हैं। यह उद्यान मूल रूप से गांव था जिसके आस-पास १५वीं-१६वीं शताब्दी के सैय्यद और लोदी वंश के स्मारक थे। अंग्रेजों ने १९३६ में इस गांव को दोबारा बसाया। यहां नेशनल बोंजाई पार्क भी है जहां बोंज़ाई का अच्छा संग्रह है। इस उद्यान क्षेत्र का विस्तार लगभग ९० एकड़ में है जहां उद्यान के अलावा दिल्ली सल्तनत काल के कई प्राचीन स्मारक भी हैं जिनमें मुहम्मद शाह का मकबरा, सिकंदर लोदी का मक़बरा, शीश गुंबद एवं बड़ा गुंबद प्रमुख हैं। इन स्मारकों में प्रायः मकबरे ही हैं जिन पर लोधी वंश द्वारा १५वीं सदी की वास्तुकला का काम किया दिखता है। लोधी वंश ने उत्तरी भारत और पंजाब के कुछ भूभाग पर और पाकिस्तान में वर्तमान खैबर पख्तूनख्वा पर वर्ष १४५१ से १५२६ तक शासन किया था। अब इस स्थान को भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) द्वारा संरक्षण प्राप्त है। यहाँ एक उद्यान (बोटैनिकल उद्यान) भी है जहां पेड़ों की विभिन्न प्रजातियां, गुलाब उद्यान (रोज गार्डन) और ग्रीन हाउस है जहां पौधों का प्रतिकूल ऋतु बचाकर रखा जाता है। पूरे वर्ष यहां अनेक प्रकार के पक्षी देखे जा सकते हैं।

वंश (जीवविज्ञान)

वंश (लैटिन: genus, जीनस; बहुवाची: genera, जेनेरा) जीववैज्ञानिक वर्गीकरण में जीवों के वर्गीकरण की एक श्रेणी होती है। एक वंश में एक-दूसरे से समानताएँ रखने वाले कई सारे जीवों की जातियाँ आती हैं। ध्यान दें कि वंश वर्गीकरण के लिए मानकों को सख्ती से संहिताबद्ध नहीं किया गया है और इसलिए अलग अलग वर्गीकरण कर्ता वंशानुसार विभिन्न वर्गीकरण प्रस्तुत करते हैं।

शुंग राजवंश

शुंग वंश प्राचीन भारत का एक शासकीय वंश था जिसने मौर्य राजवंश के बाद शासन किया। इसका शासन उत्तर भारत में १८७ ई.पू. से 75 ई.पू. तक यानि 112 वर्षों तक रहा था। पुष्यमित्र शुंग इस राजवंश का प्रथम शासक था।

अन्य भाषाओं में

This page is based on a Wikipedia article written by authors (here).
Text is available under the CC BY-SA 3.0 license; additional terms may apply.
Images, videos and audio are available under their respective licenses.