अर्थशास्त्र

अर्थशास्त्र (Economics; इकोनॉमिक्स) सामाजिक विज्ञान के शाखा ह जेकरा अन्तर्गत वस्तुवन आ सेवा कुल के उत्पादन, वितरण, विनिमय आ उपभोग के अध्ययन करल जायेला। 'अर्थशास्त्र' शब्द संस्कृत शब्दन अर्थ (धन) आ शास्त्र के संधि से बनल बा, जेकर शाब्दिक अर्थ ह - 'धन के अध्ययन'। कउनो विषय के संबंध में मुनष्यन के कार्यन के क्रमबद्ध ज्ञान के उ विषय के शास्त्र कहल जायला, इहे खातिर अर्थशास्त्र में मुनष्यन के अर्थसंबंधी कायन के क्रमबद्ध ज्ञान होखल आवश्यक बा।

अर्थशास्त्र के फोकस एह बात पर होला कि बिभिन्न आर्थिक एजेंट सभ के बेहवार आ आपसी क्रिया-अंतर्क्रिया कवना तरीका के बा आ अर्थब्यवस्था सभ कइसे काम करे लीं। माइक्रोइकोनॉमिक्स में अर्थब्यवस्था के बेसिक तत्व सभ के बिस्लेषण कइल जाला जेह में एकहक ठो एजेंट आ बजार (मार्केट), इनहन के अंतर्क्रिया, आ एह अंतर्क्रिया (इंटरैक्शन) सभ के परिणाम के अध्ययन शामिल होला। एह एकहक ठो एजेंट सभ में परिवार, फर्म, बिक्रेता, खरीदार इत्यादि लोग सामिल होला।

एकरे बिपरीत मैक्रोइकोनॉमिक्स में पूरा अर्थब्यवस्था के बिस्लेषण कइल जाला (मने कि पूरा संपूर्ण उत्पादन, उपभोग, बचत, आ निवेश) आ पूरा अर्थब्यवस्था के परभावित करे वाला मुद्दा, बेरोजगारी, बिबिध किसिम के आर्थिक नीति इत्यादि के अध्ययन आ बिस्लेषण कइल जाला।

अर्थशास्त्रीय विवेचना के प्रयोग समाज से संबंधित विभिन्न क्षेत्रन में कइल जायेला, जैसे:- अपराध, शिक्षा, परिवार, स्वास्थ्य, कानून, राजनीति, धर्म, सामाजिक संस्थान और युद्ध इत्यदि।

Supply-demand-right-shift-demand
सप्लाई आ डिमांड के डाइग्राम; मांग में बढ़ती के परभाव देखा रहल बा।
अक्रोध

अक्रोध (संस्कृत शब्द) के अरथ होला "गुस्सा या खिनिस के भावना से मुक्त"। ई भारतीय परंपरा में एगो सद्गुण मानल जाला।

अर्थ

अर्थ भारतीय परंपरा में जीवन के चार गो लक्ष्य, जिनहन के पुरुषार्थ कहल जाला, में से एक बा। धर्म, अर्थ काम आ मोक्ष, ई चारि गो पुरुषार्थ गिनावल गइल बाड़ें।

अर्थ के आम भाषा में मतलब - अरथ, माने, मतलब भी होला आ धन, संपत्ति भी होला।

खेती

खेती (अंगरेजी: Agriculture, हिंदी: कृषि) जमीन पर मनुष्य द्वारा फसल उपजावे के खेती या कृषि कहल जाला। ई एक तरह के आजीविका के साधन के रूप में अपनावल आर्थिक क्रिया बाटे। खेती आपन भोजन आ आय हासिल करे वाला लोग के किसान कहल जाला।

गिनी गुणांक

अर्थशास्त्र में गिनी गुणांक भा गिनी कोफिशिएंट (अंगरेजी: Gini coefficient) सांख्यिकीय बिचरणशीलता के एगो माप हवे। ई आय में बिसमता के ब्यक्त करे वाला माप हवे। एकर ईजाद इटली के सांख्यिकीबिद कोरादो गिनी (Corrado Gini) द्वारा 1912 में कइल गइल रहे।

गिनी गुणांक, लारेंज कर्व पर आधारित माप हवे। चित्र में 45 डिग्री के लाइन एकदम समान बितरण देखावे ले आ अगर आय के बितरण देखावे वाला लारेंज कर्व एकरे से अलग होखे तब गिनी गुणांक के गणना 45 डिग्री के रेखा आ लारेन्ज कर्व के बीच के एरिया आ 45 डिग्री के नीचे वाला कुल एरिया के बीचा के अनुपात के बतावे ला; एकर गणना G = A/(A + B) के रूप में होखे ले।

गिनी गुणांक के मान 1 होखले के मतलब होला आय भा संपति के बितरण में सभसे ढेर बिसमता बा।

जनसंख्या

जनसंख्या जीव जंतु के कौनों भी प्रजाति के सगरी सदस्यन के गिनती के कहल जाला। आम बोलचाल की भाषा में एकर मतलब होला कवनों इलाका में निवास करे वाला सगरी मनुष्य।

जनसंख्या के गिनती कइले के जनगणना कहल जाला। अलग-अलग देस में ई अलग-अलग समय बिता के होला। भारत में ई हर दस साल पर होला, पाछिली बेर 2011 में जनगणना भइल रहे। एह समय भारत क कुल जनसंख्या 1,210,569,573 बाटे (2011 की जनगणना की हिसाब से)।

द्यौ

द्यौ, द्यौष्पिता भा द्यौष्पितृ एगो वैदिक देवता हवें। आकास के पिता के रूप में कल्पित करि के एह देवता के पृथिवी माता के साथे अस्थान दिहल गइल बा।

न्याय

न्याय हिंदू परंपरा के छह गो दर्शन में से एगो बाटे।

परचेजिंग पावर पैरिटी

परचेजिंग पावर पैरिटी (अंगरेजी: Purchasing power parity) कौनों दू देस की मुद्रा के मूल्य के तुलना करे खातिर इस्तेमाल होला, जहाँ कुछ निश्चित सामान सभ के झाँपी के कल्पना कइल जाला आ ओह सामान सभ के खरीदे में कौना देस के केतना मुद्रा के खरचा होखी ओही आधार पर दुनों देस के करेंसी के कीमत तय कइल जाला।

बिजयदसिमी

बिजयदसिमी (सं:विजयादशमी) या दसहरा भा दशहरा एगो हिंदू तिहुआर ह जेवन कुआर महीना की दसिमी तिथी के मनावल जाला। ई तिहुआर बुराई के चीन्हा रावण पर अच्छाई के प्रतीक राम के बिजय के रूप में मनावल जाला आ एह दिन रावण के पुतला जरा के खुसी मनावल जाल। बंगाल में दुर्गा पूजा के समापन एही दसहरा से होला।

ब्रह्म

ब्रह्म, ब्रह्मन् भा ब्रह्मन, हिंदू धर्म में सबसे सर्वोच्च सत्ता, वैश्विक नियम, या सभ संसार आ पदार्थ के कारण आ नियंता के मानल गइल बाटे।

मानव बिकास इंडेक्स

मानव बिकास इंडेक्स (Human Development Index) या एचडीआई (HDI) एक प्रकार के सांख्यिकी बाटे जवन en:life expectancy, शिक्षा, आ प्रति ब्यक्ति आय नियर इंडिकेटर सभ पर आधारित बाटे। ई बिस्व के देसवन के रैंकिंग देवे के काम आवेला। जवान देस में जीवन अनुमान, प्रति ब्यक्ति आय आ शिक्षा के स्तर ऊपर होला आ प्रजनन दर आ मुद्रा स्फीति नीचे होला ऊ देस एह इंडेक्स में ऊपर के रैंक पावे लें। पाकिस्तानी अर्थशास्त्री महबूबुल हक़ आ अमर्त्यसेन मिल के एह इंडेक्स के सुझाव दिहले रहलें।

मोक्ष

मोक्ष माने मुक्ती होला। भारतीय परंपरा में, हिंदू धर्म में जीवन के चार गो लक्ष्य, जिनहन के पुरुषार्थ कहल जाला, में से एक बा। धर्म, अर्थकाम आ मोक्ष, ई चारि गो पुरुषार्थ गिनावल गइल बाड़ें।

मोक्ष के मतलब संसार के आवागमन चक्र से मुक्ती के कहल गइल बाटे।

योग

योग हिंदू परंपरा के छह गो दर्शन में से एगो बाटे।

रुद्र

रुद्र हिंदू धर्म में एगो वैदिक देवता बाड़ें। वर्तमान देवता शिव के साथ इनके समानता देखल जाले आ समय के साथ रुद्र आ शिव पर्यायवाची हो गइल। शैव मत में ई एगो प्रमुख देवता मानल जालें।

वैशेषिक

वैशेषिक दर्शन, भारतीय दर्शन सभ में एक ठो दर्शन हवे। एकर मूल व्याख्याता आ सूत्रकार ऋषि कणाद के मानल जाला। ई सुरू में एक ठो स्वतंत्र दर्शन रहल बाकी बाद में न्याय दर्शन के साथ एकरे समानता के कारन अब दुन्नो के एक्के साथ पढ़ल जाला।

सकल घरेलू उत्पाद

सकल घरेलू उत्पाद (अंग्रेजी:Gross Domestic Product) या जीडीपी कौनों देस भा क्षेत्र में कौनो निश्चित समय अवधि में होखे वाला कुल उत्पादन के माप हवे। ई सगरी माल आ सेवा सभ के उत्पादन के बाजार मूल्य के मौद्रिक नाप हवे, यानी मुद्रा (रुपिया, डालर इत्यादि में) ब्यक्त कइल जाला, आ आमतौर पर तिमाही (साल में चार बेर) या साल भर खाती मापल जाला।

नामिक (नॉमिनल) जीडीपी के अनुमान सामान्यतः पूरे देस या क्षेत्र के आर्थिक प्रदर्शन के निर्धारित करे खातिर इस्तेमाल होला, आ अंतर्राष्ट्रीय स्तर प आपस में तुलना करे खाती होला। हालाँकि, मुद्रास्फीति के दर अलग-अलग देसवन में अलग-अलग होख्ले के कारण, तुलना करे खातिर नॉमिनल जीडीपी के बहुत नीक तरीका ना मानला जाला। मुद्रास्फीति के परभाव के हटा के तुलना करे खाती जीवनयापन में होखे वाला खर्चा के दर के धियान में रख के परचेजिंग पावर पैरिटी (पीपीपी) के आधार पर होखे वाली गणना के इस्तेमाल कइल जाला।

सरस्वती

सरस्वती, सुरसती, सरसती (संस्कृत:सरस्वती) हिंदू धर्म में एगो देवी हई। ई ब्रह्मा के पत्नी मानल हई आ विद्या के देवी मानल जाली।

लक्ष्मी आ पार्वती की साथ मिल के ई त्रिदेवी की रूप में पूजल जाली। सरस्वती के पूजा से हिंदू धर्म में विद्या अध्ययन, मने पढ़ाई के आरंभ होला। सरस्वती के पूजा बसंत पंचिमी के होला।

सांख्य

सांख्य हिंदू परंपरा के छह गो दर्शन में से एगो बाटे।

हिंदू धर्म

हिंदू धर्म जीवन शैली, भा धर्म बा जौना के माने वाला लोग प्रमुख रूप से दक्खिन एशिया में बा। हिंदू धर्म के दुनियाँ के सभसे पुरान धर्म मानल जाला, आ कुछ अनुयायी आ बिद्वान लोग एकरा के सनातन धर्म, "हमेशा से मौजूद परंपरा" भा "शास्वत मार्ग" के रूप में माने ला जे मानवता के इतिहास से भी पुराना समय से मौजूद होखे। बिद्वान लोग हिंदू धर्म के फ़्यूजन भा संश्लेषण माने ला जेह में कईयन गो भारतीय परंपरा आ रिवाज सभ के मेलजोल भइल होखे, जिनहन के अलग-अलग मूल रहल आ केहू एगो संस्थापक भा प्रवर्तक ना रहल बा। ई "हिंदू संश्लेषण" वैदिक काल (1500 ईसापूर्व से 500 ईसा पूर्व) के बाद 500 ईपू आ 300 ईसवी के बीच सुरू भइल।

अर्थशास्त्र
बिधितंत्र
माइक्रोइकोनॉमिक्स
मैक्रोइकोनॉमिक्स
गणितीय अर्थशास्त्र
अप्लाइड फील्ड सभ
चिंतन के मतधारा सभ
अर्थशास्त्री आ
आर्थिक बिचारक
अंतर्राष्ट्रीय संस्था

दुसरी भाषा में

This page is based on a Wikipedia article written by authors (here).
Text is available under the CC BY-SA 3.0 license; additional terms may apply.
Images, videos and audio are available under their respective licenses.